सोमवार, सितम्बर 25, 2023
26.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

होमIndiaभारत में जातिवाद, एक अभिशाप जो मरने से इंकार करता है, भारत...

भारत में जातिवाद, एक अभिशाप जो मरने से इंकार करता है, भारत में जातिवाद के मौजूदा हालत।

- Advertisement -

जातिवाद भारत में एक सामाजिक व्यवस्था है जो लोगों को उनके जन्म के आधार पर विभिन्न समूहों या जातियों में विभाजित करती है। जाति व्यवस्था सदियों से चली आ रही है, और इसका भारतीय समाज पर गहरा प्रभाव पड़ा है।

भारत में जातिवाद

भारत में चार मुख्य जातियाँ हैं:

ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। ब्राह्मण को उच्च जाती माना जाता है क्युकी उन्होंने ही जातिवाद की शुरुआत की ?, और उन्हें समाज का पुजारी और विद्वान माना जाता है। क्षत्रिय समाज को योद्धा मन जाता है। वैश्य समाज को व्यापारी और किसान माना जाता है। शूद्र समाज को मजदूर माना जाता है।।

चार मुख्य जातियों के अलावा कई उप-जातियां भी हैं। उप-जातियों को हजारों जातियों, या स्थानीय जाति समूहों में विभाजित किया गया है। जातियां व्यवसाय, क्षेत्र और धर्म पर आधारित होती हैं।

जातिवाद एक जटिल और श्रेणीबद्ध व्यवस्था है। लोग अपनी जाति में पैदा होते हैं, और वे इसे बदल नहीं सकते। जाति व्यक्ति की सामाजिक स्थिति, व्यवसाय और विवाह की संभावनाओं को निर्धारित करती है।

जातिवाद भारत में असमानता का एक प्रमुख स्रोत है। निचली जातियों के लोगों के साथ अक्सर शिक्षा, रोजगार और आवास में भेदभाव किया जाता है। उनके गरीब और अशिक्षित होने की भी अधिक संभावना है।

भारत में जातिवाद एक बड़ी समस्या है, लेकिन यह एक ऐसी समस्या भी है जो धीरे-धीरे बदल रही है। भारत सरकार ने जातिगत भेदभाव को खत्म करने के लिए कानून पारित किए हैं, और दलितों, या निचली जातियों के लोगों का आंदोलन बढ़ रहा है, जो अपने अधिकारों के लिए लड़ रहे हैं।

इन प्रयासों के बावजूद, जातिवाद अभी भी भारत में एक बड़ी समस्या है। यह एक ऐसी समस्या है जिसे हल करने में समय लगेगा, लेकिन यह एक ऐसी समस्या है जिसे हल किया जाना चाहिए यदि भारत को वास्तव में न्यायपूर्ण और न्यायसंगत समाज बनाना है।

यहाँ भारत में जातिवाद की कुछ वास्तविक और वर्तमान स्थितियाँ हैं:

  • दलित अभी भी शिक्षा, रोजगार और आवास से वंचित हैं।
  • उनके गरीब और अशिक्षित होने की भी अधिक संभावना है।
  • दलित अक्सर हिंसा और भेदभाव का शिकार होते हैं।
  • अपने अधिकारों के लिए लड़ने वाले दलितों का आंदोलन बढ़ रहा है।
  • भारत सरकार ने जातिगत भेदभाव को गैरकानूनी घोषित करने के लिए कानून पारित किए हैं, लेकिन इन कानूनों को हमेशा लागू नहीं किया जाता है।

भारत में जातिवाद पर काबू पाने की कुछ चुनौतियाँ इस प्रकार हैं:

जातिवाद भारतीय समाज में गहराई तक समाया हुआ है। यह कई लोगों के लिए संस्कृति और जीवन के तरीके का हिस्सा है। बदलाव का काफी विरोध हो रहा है।

जातिगत भेदभाव के खिलाफ कानूनों को लागू करने के लिए भारत सरकार के पास हमेशा संसाधन नहीं होते हैं।
चुनौतियों के बावजूद, भारत में जातिवाद पर काबू पाने के लिए कुछ चीजें की जा सकती हैं:

शिक्षा महत्वपूर्ण है। लोगों को जातिवाद और इसके हानिकारक प्रभावों के बारे में शिक्षित करके, हम उन रूढ़ियों और पूर्वाग्रहों को तोड़ने में मदद कर सकते हैं जो इसे कायम रखते हैं।

जागरूकता भी जरूरी है। जातिवाद के बारे में जागरूकता बढ़ाकर हम एक अधिक न्यायपूर्ण और समतामूलक समाज बनाने में मदद कर सकते हैं।

वकालत भी जरूरी है। दलितों और अन्य वंचित समूहों के अधिकारों की वकालत करके हम बदलाव लाने में मदद कर सकते हैं।

जातिवाद एक जटिल और कठिन समस्या है, लेकिन यह एक ऐसी समस्या है जिसका समाधान किया जा सकता है। साथ मिलकर काम करके हम सभी भारतीयों के लिए अधिक न्यायसंगत और न्यायसंगत समाज बना सकते हैं।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

बीजेपी के शांति मार्च पर भारी पड़ा कांग्रेस का विरोध प्रदर्शन, बीजेपी सांसद का फूंका पुतला

देश रोज़ाना: होडल राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष उदयभान के निवास पर रविवार को बीजेपी नेताओं व कार्यकर्ताओं द्वारा कांग्रेस पार्टी के प्रदेश...

भारतीय पर्यटन के विस्तार को लेकर बड़ी बात बोले, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

आज प्रधानमंत्री मोदी का देश की जनता से 'मन की बात' कार्यक्रम का 105वां एपिसोड था। इस दौरान प्रधानमंत्री ने बीते दिनों हुई कई बातों को लेकर चर्चा की।

हरियाणा में जल्द होगी नई प्रमोशन पॉलिसी लागू, अब कर्मचारियों की होगी बल्ले- बल्ले

देश रोज़ाना: हरियाणा सरकार अब कर्मचारियों के लिए एक और नई पॉलिसी लेकर आ रही है। इस पॉलिसी की मांग कर्मचारी लंबे समय से...

Recent Comments