Thursday, July 25, 2024
30.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeBUSINESS News in hindi - DeshrojanaInflation in India: आलू, प्याज, टमाटर की महंगाई से बिगड़ा थाली का...

Inflation in India: आलू, प्याज, टमाटर की महंगाई से बिगड़ा थाली का स्वाद, 10% तक महंगी हो गई वेज थाली

Google News
Google News

- Advertisement -

सरकारी दावे चाहे जो हों, महंगाई (Inflation in India)आम आदमी की जेब पर लगातार डाका डाल रही है। दिन-प्रतिदिन की जरूरी चीजें लगातार महंगी हो रही है। एक रिपोर्ट में कहा गया है कि शाकाहारी थाली की कीमत जून में औसतन 10 प्रतिशत तक बढ़ गई है। प्याज, टमाटर और आलू की कीमतों में आई तेजी इसकी प्रमुख वजह रही है।

Inflation in India: क्रिसिल ने जारी की रिपोर्ट

क्रिसिल मार्केट इंटेलिजेंस एंड एनालिसिस की मासिक रिपोर्ट ‘रोटी राइस रेट’ (Rice Roti Rate) के अनुसार, ब्रॉयलर मुर्गे की कीमत में गिरावट से मांसाहारी भोजन की लागत में कमी आई है। वहीं, शाकाहारी थाली की कीमत जून में 10 प्रतिशत बढ़कर (Inflation in India) 29.4 रुपये प्रति थाली हो गई। जो जून 2023 में यह 26.7 रुपये थी। मई 2024 में यह 27.8 रुपये थी। शाकाहारी थाली में रोटी, सब्जियां (प्याज, टमाटर तथा आलू), चावल, दाल, दही और सलाद शामिल है।

टमाटर, आलू और प्याज के बढ़े दाम

रिपोर्ट में शाकाहारी थाली की कीमत में कुल वृद्धि (Inflation in India) का कारण टमाटर की कीमतों में 30 प्रतिशत, आलू में 59 प्रतिशत और प्याज में 46 प्रतिशत की वृद्धि को बताया गया है। प्याज के मामले में रबी की फसल के रकबे में भारी गिरावट से आवक कम रही, जबकि मार्च में बेमौसम बारिश के कारण आलू की पैदावार कम हुई। कर्नाटक तथा आंध्र प्रदेश के प्रमुख उत्पादक क्षेत्रों में उच्च तापमान के कारण ग्रीष्मकालीन फसल में संक्रमण होने से टमाटर की आवक पिछले साल की तुलना में 35 प्रतिशत कम हुई। रिपोर्ट में कहा गया कि इसके अलावा रकबे में कमी के कारण चावल की कीमतों में 13 प्रतिशत की वृद्धि हुई। परिणामस्वरूप आवक कम रही। प्रमुख खरीफ महीनों में सूखे के कारण दालों की कीमतों में 22 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

मांसाहारी थाली की कीमत में कमी

मांसाहारी थाली की कीमत जून में घटकर 58 रुपये रह गई। जबकि एक साल पहले इसी अवधि में इसकी कीमत 60.5 रुपये थी। मई में इसकी कीमत 55.9 रुपये प्रति थाली थी। इसमें सामग्री शाकाहारी थाली के समान होती हैं, लेकिन दाल की जगह चिकन होता है। रिपोर्ट के अनुसार, पिछले वर्ष की तुलना में ब्रॉयलर मुर्गे की कीमत में करीब 14 प्रतिशत की कमी, अधिक आपूर्ति और चारे की कम लागत के कारण मांसाहारी थाली की लागत में कमी आई है।

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

कपास की फसल को लेकर गांव बंचारी में किसान मेले का आयोजन

पलवल,24 जुलाई - कृषि एवं किसान कल्याण विभाग पलवल द्वारा कपास की फसल को लेकर गांव बंचारी में किसान मेले का आयोजन किया।...

कार की चपेट में आकर बाइक सवार युवक की मौत

देश रोजाना, हथीन- गांव बहीन के निकट होड़ल नूँह रोड पर कार की चपेट में आकर एक बाइक सवार युवक की मौत हो गई।...

नए बस रूटों के लागू होने से परिवहन सेवाओं का होगा विस्तार, सूची हुई जारी

देश रोजाना, हथीन- राज्य परिवहन विभाग द्वारा नए बस रूट परमिटों की सूची जारी हो गई है। इसके तहत अब शहरी एवं ग्रामीण बस...

Recent Comments