Wednesday, May 29, 2024
37.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeDELHI NCR News in hindi - Deshrojanaगुरुग्राम की 11 कॉलोनियों के नियमितीकरण का रास्ता हुआ साफ

गुरुग्राम की 11 कॉलोनियों के नियमितीकरण का रास्ता हुआ साफ

Google News
Google News

- Advertisement -

गुरुग्राम। जिला में अनियमित कॉलोनियों में रह रहे निवासियों के लिए राहत की खबर है। सरकार द्वारा अनियमित कॉलोनी को नियमित करने के लिए निर्धारित मानकों को पूरा कर रही 11 कॉलोनियों की सूची जिला प्रशासन द्वारा तैयार कर ली गयी हैं। इन कॉलोनियों को मंजूर करने का प्रस्ताव इसी सप्ताह सरकार के पास भेजा जाएगा।


डीसी निशांत कुमार यादव ने मंगलवार को टाऊन एंड कंट्री प्लानिंग, राजस्व व पंचायती विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक में बताया कि सरकार से मिले निदेर्शों के तहत जिला में टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग द्वारा निगम क्षेत्र से बाहर बसावट वाली अनियमित कॉलोनियों का वर्ष 2021 में सर्वे कराया गया था। उसमें 102 कॉलोनियों को चिह्नित किया गया था। उन्होंने बताया कि इन कॉलोनियों में करीब 60 कॉलोनी ही ऐसी पाई गई जो निर्धारित मानकों के प्रमुख बिंदुओं जैसे दो एकड़ से अधिक का क्षेत्रफल व तीन मीटर से अधिक चौड़े रास्ते जैसी शर्तों पर खरी उतरी हैं। डीसी ने बताया कि इनमें से 11 कॉलोनी में सभी विभागीय जांच पूरी कर ली गयी हैं। इन कॉलोनियों के नियमितीकरण का प्रस्ताव इसी सप्ताह सरकार के पास भेज दिया जाएगा। वहीं बाकी बची 49 कॉलोनियों की सूची जांच के लिए संबंधित विभागों को उपलब्ध करा दी गयी है।
उन्होंने बताया विभागीय जांच में दुरुस्त पाए जाने वाली कॉलोनियों की सूची तैयार कर जुलाई माह में मंजूरी का प्रस्ताव सरकार के पास भेजा जाएगा। गुरुग्राम में अनियमित कॉलोनियों को नियमित करने की शर्त में बदलाव किया गया है। पूर्व में कॉलोनियों के नियमितीकरण के लिए अभी तक रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन की शर्त होती थी, लेकिन अब से आरडब्ल्यूए की आवश्यकता नहीं होगी। कॉलोनी का कोई भी व्यक्ति कॉलोनी को नियमित करने के लिए आवेदन करेगा तो निर्धारित मानकों की जांच कर उसे पास कर दिया जाएगा।

तैयार की गई 11 कॉलोनियों की सूची
बैठक में डीटीपी (ई) मनीष यादव ने बताया कि निर्धारित मानकों के तहत नियमितीकरण के लिए फरुखनगर में चार, हरसरू में चार, मानेसर में एक बादशाहपुर में एक व सोहना में एक कॉलोनी के चयन किया गया है।

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

चाचा ने भतीजे को पढ़ाया जिंदगी का पाठ

जब कोई व्यक्ति संकट में हो और उसकी मदद करने से उसका कोई अपना मदद करने में असमर्थता जताए, तो लगता है कि उस...

इस ‘भ्रष्ट व्यवस्था’ का कुछ नहीं हो सकता है

गुजरात के राजकोट के गेम जोन और दिल्ली के बेबी केयर सेंटर में हुए हादसे में सबसे बड़ी समानता यह है कि दोनों जगहों...

घटता मतदान लोकतांत्रिक व्यवस्था के लिए चिंताजनक

अब इस बात पर चर्चा करना बेकार है कि महिलाओं ने कम मतदान किए और पुरुषों ने ज्यादा। अब जो होना था, वह हो...

Recent Comments