Monday, May 27, 2024
36.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeHARYANAकॉलेज में कहासुनी होने पर साथी को किया अगवा

कॉलेज में कहासुनी होने पर साथी को किया अगवा

Google News
Google News

- Advertisement -

हथीन। राजकीय पॉलिटेक्निक कॉलेज उटावड़ में फामेर्सी सेकंड ईयर में पढ़ने वाले दो छात्रों के बीच कहासुनी ऐसी गंभीर रंजिश में तब्दील हुई कि नाराज सहपाठी ने दो साथियों संग मिल फिल्मी स्टाइल में दूसरे छात्र को सरेराह अगवा कर लिया। बुधवार दिन में में हुई इस घटना की जांच में जुटी पुलिस टीम ने चंद घंटों में ही अपहरणकर्ता को गिरफ्तार कर अगवा छात्र आशीष को मुक्त कराया।


अगवा हुआ छात्र आशीष हिसार का रहने वाला है। वह हथीन के भंगुरी में रहने वाले दोस्त दिनेश कुमार के साथ कॉलेज से दोपहर 12 बजे एक आॅटो में बैठकर हथीन के लिए निकला। रास्ते में रुपङाका गाँव से आटो के सामने एक सफेद रंग की कार रुकी तो आटो भी रुका। तभी कार में तीन नौजवान युवक उतरे और आशीष को थप्पड़ मारकर जबरदस्ती अपहरण करके साथ ले गए। घबराया हुए दिनेश ने पुलिस को पूूरा वाकया सुनाया तो मामले की गंभीरता को देखते हुए एसपी निर्देशन में जांच शुरू हुई।
थाना हथीन प्रभारी उप निरीक्षक मनोज कुमार ने बताया कि वारदात में शामिल आरोपी लव कुश शर्मा निवासी रामलीला मैदान होडल को वारदात में प्रयुक्त गाड़ी सहित गिरफ्तार कर लिया गया। अपहरणकर्ता के चंगुल से आशीष को बरामद किया गया। आरोपी ने पूछताछ में बताया कि उसके दोस्त विशेष एवं आशीष की पॉलिटेक्निक कॉलेज उटावड में किसी बात को लेकर कहासुनी हो गई थी जिसकी रंजिश को रखते हुए उसने अपने दोस्त विशेष के कहे अनुसार अपने अन्य तीन साथीयों के साथ मिलकर प्लान के तहत आशीष का उसकी खुद की गाड़ी से अपहरण किया। आशीष के साथ मारपीट कर उसका मोबाइल भी छीना गया था। इसके आधार पर अभियोग में लूटपाट की भी धारा जोड़कर फरार आरोपियों की तलाश की जा रही है।

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

सूदखोरों के मकड़जाल में फंसकर कब तक जान गंवाते रहेंगे लोग?

मुंशी प्रेमचंद की एक कालजयी रचना है सवा सेर गेहूं। कहानी सूदखोर महाजन की लुटेरी व्यवस्था का बड़ा मार्मिक वर्णन करती है। कहानी का...

भारतीय मसालों की साख पर बट्टा लगाती कंपनियां

मध्य काल में भारतीय मसालों की कभी यूरोप तक जबरदस्त मांग थी। हल्दी, काली मिर्च, दालचीनी, अदरक, तेजपत्ता और लौंग का दीवाना तो आज...

कोंडदेव ने आजीवन पहना बिना बांह का कुर्ता

दादोजी कोंडदेव ने मराठा साम्राज्य के संस्थापक छत्रपति शिवाजी को सैन्य और धार्मिक शिक्षा दी थी। शिवाजी के पिता शाहजी की पूना की जागीर...

Recent Comments