Monday, May 27, 2024
34.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeIndiaकेरल लॉटरी परिणाम आज आउट चेक विशु बम्पर बीआर 91 लॉटरी परिणाम...

केरल लॉटरी परिणाम आज आउट चेक विशु बम्पर बीआर 91 लॉटरी परिणाम प्रथम पुरस्कार विजेताओं की सूची

Google News
Google News

- Advertisement -

विशु लॉटरी विजेता 2023: केरल विशु बंपर लॉटरी का रिजल्ट बुधवार (24 मई) को घोषित कर दिया गया। केरल राज्य लॉटरी विभाग ने विशु बंपर बीआर-91 लॉटरी के लिए विजेताओं की संख्या की घोषणा कर दी है। टिकट नंबर वीई 475588 ने 12 करोड़ रुपये का पहला इनाम जीता है। 2023 के लिए बाँपर लॉटरी का खुलासा राज्य के वित्त मंत्री केएन बालगोपाल ने तिरुवनंतपुरम के गोर्की भवन में एक लॉटरी ड्रा योजना के दौरान किया।

कब शुरू हुई केरल लॉटरी?
बता दें कि किराला राज्य लॉटरी केरल सरकार संचालित करती है, इसकी स्थापना वर्ष 1967 में हुई थी। हर साल विशु के त्योहार पर, केरल राज्य लॉटरी विभाग एक बापर लॉटरी का आयोजन करता है। इसका विशु बंपर लॉटरी के नाम से जाना जाता है। विशु मलयालम कैलेंडर के अनुसार नए साल की शुरुआत का प्रतीक है।

रिजल्ट आधिकारिक वेबसाइट पर जारी
लॉटरी का ड्रा गोर्की भवन, बेकरी जंक्शन के पास, पलायम, तिरुवनंतपुरम में हुआ, जिसका पूरा रिजल्ट बुधवार शाम 4 बजे के बाद आधिकारिक वेबसाइट पर जारी किया गया। लॉटरी में पहले पुरस्कार के विजेताओं ने 12 करोड़ रुपये जीते, वहीं दूसरे को 1 करोड़ रुपये और तीसरे विजेताओं को 10 लाख रुपये मिले।

केरल लॉटरी विशु बंपर BR-91 लकी सट्टेबाजी के जीतने वाले नंबरों की लिस्ट:

    • लकी नंबर VE 475588 ने 12 करोड़ रुपए का पहला पुरस्कार जीता।
    • लकी नंबर VA 513003, VB 678985, VC 743934, VD 175757, VE 797565 और VG 642218 ने 1 करोड़ रुपये का दूसरा पुरस्कार जीता।
    • लकी टोकन नंबर VA 214064, VB 770679, VC 584088, VD 265117, VE 244099 और VG 412997 ने 10 लाख रुपये के साथ तीसरा पुरस्कार जीता।
- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

सूदखोरों के मकड़जाल में फंसकर कब तक जान गंवाते रहेंगे लोग?

मुंशी प्रेमचंद की एक कालजयी रचना है सवा सेर गेहूं। कहानी सूदखोर महाजन की लुटेरी व्यवस्था का बड़ा मार्मिक वर्णन करती है। कहानी का...

कोंडदेव ने आजीवन पहना बिना बांह का कुर्ता

दादोजी कोंडदेव ने मराठा साम्राज्य के संस्थापक छत्रपति शिवाजी को सैन्य और धार्मिक शिक्षा दी थी। शिवाजी के पिता शाहजी की पूना की जागीर...

भारतीय मसालों की साख पर बट्टा लगाती कंपनियां

मध्य काल में भारतीय मसालों की कभी यूरोप तक जबरदस्त मांग थी। हल्दी, काली मिर्च, दालचीनी, अदरक, तेजपत्ता और लौंग का दीवाना तो आज...

Recent Comments