Thursday, April 18, 2024
35.2 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeDELHI NCR News in hindi - Deshrojanaपहलवानों के समर्थन में मजदूरों ने किया प्रदर्शन

पहलवानों के समर्थन में मजदूरों ने किया प्रदर्शन

Google News
Google News

- Advertisement -

केन्द्रीय ट्रेड यूनियन व संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर बृहस्पतिवार को यौन उत्पीड़न के आरोपी भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह की गिरफ्तारी और महिला पहलवानों के खिलाफ दिल्ली पुलिस द्वारा दर्ज किए गए झुठे मुकदमे वापस लेने की मांग को लेकर कर्मचारियों एवं मजदूरों ने डीसी आफिस पर आक्रोश प्रदर्शन किया। संयुक्त ट्रेड यूनियन कौंसिल फरीदाबाद के बेनर तले आयोजित इस प्रदर्शन में अखिल भारतीय राज्य सरकारी कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष सुभाष लांबा, कोषाध्यक्ष रहे श्री पालसिंह भाटी, सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेश कुमार शास्त्री, सचिव युद्धवीर सिंह खत्री, सीटू के जिला प्रधान निरंतर पाराशर व महासचिव वीरेंद्र डंगवाल, इंटक से हुकम चंद बैनीवाल,एटक के प्रधान बिशंम्बर सिंह व वैजू सिंह, एचएमएस से आरडी यादव, आईसी टीयू से जवाहर सिंह, रिटायर्ड कर्मचारी संघ से एसएस बांग्गा व लज्जा राम आदि नेता मौजूद थे।

प्रदर्शनकारी कर्मचारी राजस्थान भवन के सामने एकत्रित हुए और वहां एक सभा का आयोजन किया गया। सभा की अध्यक्षता सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के जिला प्रधान करतार सिंह, सीटू के प्रधान निरंतर पाराशर, एटक के प्रधान काम रेड बिशंम्बर सिंह व इंटक के प्रधान हुकम चन्द बैनीवाल,एचएमएस के रणधीर सिंह, आई सी टीयू के पूरन लाल ने संयुक्त रूप से की। सभा समाप्ति पर वहां से जूलूस की शक्ल में पहलवान बेटियों को न्याय दो, आदि नारे लगाते हुए डीसी आफिस पर पहुंचे और वहां केन्द्र एवं राज्य सरकार और दिल्ली पुलिस के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया।

प्रदर्शन के बाद महामहिम राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन सीटीएम अमित मान को सौंपा गया। प्रदर्शन कारी कर्मचारियों को संबोधित करते हुए अखिल भारतीय राज्य सरकारी कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष सुभाष लांबा, सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेश कुमार शास्त्री, सीटू के प्रधान निरंतर पाराशर, महा सचिव वीरेंद्र डंगवाल, एचएमएस के प्रधान आरडी यादव, एटक के प्रधान बिशंम्बर सिंह आदि नेताओं ने संबोधित करते हुए कहा कि केंद्र सरकार यौन उत्पीड़न के आरोपी भाजपा सांसद को बचाने में जुटी हुई है। माननीय सर्वोच्च न्यायालय के हस्तक्षेप के बाद हई एफआईआर के बाद उन्हें गिरफ्तार करने की बजाय जांच के नाम पर मामले को लटकाया जा रहा है। जिससे पहलवानों व जनता में आक्रोश बढ़ रहा है। इसी वजह से यौन उत्पीडन का आरोपी महिला पहलवानों के खिलाफ आए दिन अनर्गल,घोर निंदनीय एवं शर्मनाक बयान बाजी कर रहा है।

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

Recent Comments