Wednesday, June 19, 2024
42.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeEDITORIAL News in Hindiमणिपुर की हिंसा के लिए म्यांमार से आए कुकी जिम्मेदार?

मणिपुर की हिंसा के लिए म्यांमार से आए कुकी जिम्मेदार?

Google News
Google News

- Advertisement -

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने पिछले हफ्ते घोषणा की थी कि म्यांमार की सीमा से लगती भारतीय सीमा पर बाड़बंदी की जाएगी। भारत सरकार के इस फैसले के पीछे प्रमुख रूप से दो घटनाएं हैं। पहला प्रमुख कारण तो पिछले दिनों मणिपुर में भड़की हिंसक घटनाओं को माना जा रहा है। मणिपुर में मैतोई और कुकी जनजातियों के बीच हुई झड़पों और मारकाट के पीछे म्यांमार के विद्रोहियों का हाथ माना जा रहा है। मणिपुर की जातीय हिंसा के कारण हजारों लोग विस्थापित हुए हैं। करीब 170-180 लोगों की जान भी गई है। सैकड़ों महिलाओं के साथ दुराचार हुए, उनकी हत्याएं की गईं।

मणिपुर में आकर बसने वाले म्यांमार के प्रभावशाली ड्रग माफिया और पोस्त की खेती करने वालों ने हिंसा को और भड़काया है। ऐसा माना जा रहा है। फरवरी 2021 में म्यांमार में हुए सैन्य तख्ता पलट के बाद पूरा देश गृहयुद्ध की आग में जल रहा है। म्यांमार की सारी प्रशासनिक व्यवस्था पूरी तरह अस्त-व्यस्त है। कानून व्यवस्था नाम की चीज म्यांमार में नहीं रह गई है। सैन्य गुटों पर हमले और खाने-पीने की चीजों की लूटपाट ने हालात को और बिगाड़ दिया है। इसकी वजह से लगभग 20 लाख लोगों ने म्यांमार से पलायन किया है। इनमें से ज्यादातर लोग भागकर भारत के विभिन्न हिस्सों में रह रहे हैं। हालांकि मणिपुर की सरकार ने संघर्ष के लिए म्यांमार से आने वाले कुकी शरणार्थियों को जिम्मेदार ठहराया है। इसकी खुद की समिति ने पिछले साल अप्रैल में राज्य में म्यांमार से आए महज 2,187 अप्रवासियों की ही पहचान की थी।

यह भी पढ़ें : ब्राह्मण पुत्र अहिंसक बना अंगुलिमाल

अब केंद्र सरकार बाड़बंदी की बात इसलिए कर रही है क्योंकि भारत का पूर्वोत्तर इलाका कई दशकों से अशांत रहा है। असम, मणिपुर, मेघालय, नगालैंड जैसे राज्यों में अलगाववादी शक्तियां दशकों से सक्रिय रही हैं। इधर मणिपुर की घटनाओं को लेकर कहा जा रहा है कि यहां होने वाली हिंसा के लिए म्यांमार से आए कुकी विद्रोही जिम्मेदार हैं। हालांकि यह भी सच है कि पूर्वोत्तर राज्यों में कुकी सदियों से रहते आए हैं। पूर्वोत्तर राज्यों की अच्छी जानकारी रखने वाले लोगों का मानना है कि केंद्र सरकार द्वारा सीमा पर बाड़ लगाने का कारण नागरिकों की आवाजाही नहीं है।

सीमा पर बाड़ इसलिए लगाए जा रहे हैं क्योंकि पूर्वोत्तर भारत के कई विद्रोही गुटों ने म्यांमार के सीमावर्ती गांवों और कस्बों में अपने शिविर बना लिए हैं। इन इलाकों में आर्म्ड फोर्सेस स्पेशल पॉवर एक्ट (अफस्पा) इसीलिए लागू किया गया था ताकि सुरक्षा बलों को तलाशी और जब्ती की शक्तियां दी जा सकें ताकि अलगाववादियों पर काबू पाया जा सके। यह भी सही है कि सैन्य अभियान के दौरान हुई नागरिकों की मौतों के आरोपों से बचाने वाला यह कानून विवादास्पद साबित हुआ है। म्यांमार में छिपे भारतीय विद्रोही आसानी से सीमा में घुस सकते हैं। यहां के लोगों से वसूली कर सकते हैं. कुछ लोगों का यह भी मानना है कि सीमा पर बाड़ लगाने के फैसले का यहां के लोग विरोध कर सकते हैं। यह भी सही है कि हमारे देश का म्यांमार से सदियों पुराना संबंध रहा है। भाषाई और सांस्कृतिक स्तर पर भारत-म्यांमार काफी करीब रहे हैं। हां, आज जरूर हालात काफी बदल गए हैं।

संजय मग्गू

-संजय मग्गू

लेटेस्ट खबरों के लिए क्लिक करें : https://deshrojana.com/

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

आ गया Motorola Edge 50 Ultra , दमदार फीचर्स जानकर उड़ जाएंगे होश

भारतीय बाज़ारों में Motorola Edge 50 Ultra लॉन्च हो गया है स्मार्टफोन (Smartphone) के दीवानों के लिए ये सबसे बढ़िया ऑप्शन साबित हो सकता...

किरण चौधरी ने क्यों छोड़ा हरियाणा कांग्रेस का साथ, क्या रहे अंदरूनी कारण?

हरियाणा की राजनीती में अपनी छाप छोड़ने वाले पूर्व मुख्यमंत्री बंसी लाल की पुत्रवधु किरण चौधरी ने हरियाणा कांग्रेस का साथ छोड़ अपना रास्ता...

दक्षिण भारत को प्रियंका और उत्तर प्रदेश को संभालेंगे राहुल

आखिरकार राहुल गांधी ने वायनाड सीट छोड़ने और अपनी बहन प्रियंका गांधी को वायनाड से लड़ाने का फैसला कर ही लिया। इस बात की...

Recent Comments