Sunday, May 19, 2024
45.2 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeEDITORIAL News in Hindiगुरुग्राम को मिला रफ्तार का तोहफा

गुरुग्राम को मिला रफ्तार का तोहफा

Google News
Google News

- Advertisement -

बरसों से भीषण जाम और अव्यवस्थित यातायात की समस्या से दो-चार हो रहे साइबर सिटी गुरुग्राम को केंद्र सरकार ने मेट्रो रूट में विस्तार के रूप में एक नायाब तोहफा दिया है। हरियाणा की मनोहर लाल सरकार के अथक प्रयासों से बीते सात जून को केंद्रीय कैबिनेट ने हुडा सिटी सेंटर को साइबर सिटी से जोड़ने के लिए 5,452 करोड़ रुपये की लागत वाली 28.50 किलोमीटर की मेट्रो परियोजना को मंजूरी प्रदान की। इस परियोजना के पूरा होने के बाद नए और पुराने गुरुग्राम में सार्वजनिक परिवहन का ढांचा पहले से मजबूत हो जाएगा। साथ ही यह कदम पूरे एनसीआर के लिए लाभकारी साबित होगा। मालूम हो कि रोजाना एवं अक्सर गुरुग्राम आने-जाने वाले लोगों में एक बड़ी संख्या आसपास के शहरों के निवासियों की है।

इस परियोजना को अंजाम देने की जिम्मेदारी हरियाणा मास रैपिड ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन को सौंपी गई है। इस नई लाइन के साथ द्वारका एक्सप्रेस-वे तक बसाई गांव से एक ब्रांच लाइन भी जोड़ी जाएगी। परियोजना को मंजूरी की घोषणा करते हुए केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि यह कदम शहरी परिवहन के ढांचे के विस्तार की दिशा में एक अहम पहल है।

वहीं, शहरी आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय के मुताबिक, इस नई लाइन में कुल 27 मेट्रो स्टेशन होंगे। ट्रेन की रफ्तार अधिकतम 80 किलोमीटर एवं औसतन 34 किलोमीटर प्रति घंटा निर्धारित की गई है। यह पूरा प्रोजेक्ट सतह से ऊपर यानी एलिवेटेड है, जिसके चार साल की अवधि में पूरा हो जाने की संभावना है। इस नई लाइन के जरिये नए गुरुग्राम को शहर के पुराने हिस्सों से जोड़ा जाएगा, जिससे आर्थिक गतिविधियों में भी खासी बढ़ोत्तरी होने की संभावना है।

आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, निकट भविष्य में इस नई लाइन को दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से भी जोड़ने की योजना पर विचार किया जा रहा है। मालूम हो कि गुरुग्राम राज्य के प्रमुख औद्योगिक नगरों में शुमार है, जहां से देश-विदेश की नामी कंपनियां अपनी व्यापारिक गतिविधियों का संचालन करती हैं। इसके चलते यहां रोजगार की अपार संभावनाएं हैं। मेट्रो सुविधाओं में विस्तार इस दिशा में भी काफी हद सहायक साबित होगा।

संजय़ मग्गू

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

सीवी रमन बोले, मुझे ईमानदार वैज्ञानिक चाहिए

प्रकाश प्रकीर्णन के क्षेत्र में खोज करने के लिए विख्यात सर चंद्रशेखर वेंकट रमन का जन्म 7 नवंबर 1888 में हुआ था। सर सीवी रमन...

Kangana Ranaut: मंडी से चुनाव जीती तो क्या चाहती है कंगना रनौत, बोली अगर ऐसा हुआ तो..

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत (Kangana Ranaut) इन दिनों राजनीतिक गलियारों में नज़र आ रही है लोकसभा चुनाव (loksabha Election) में कंगना बीजेपी (BJP) की...

प्रचंड गर्मी के लिए प्रकृति के साथ पूरा मानव समाज जिम्मेदार

राजनीतिक रूप से तो प्रदेश का पारा चढ़ा ही है, लेकिन सूरज ने भी अपना रौद्र रूप दिखाना शुरू कर दिया है। पूरा उत्तर भारत...

Recent Comments