Monday, May 27, 2024
37.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeHARYANAधांधली के आरोपों से घिरी भाजपा, मुख्यमंत्री बोले- "नाच न जानें आंगन...

धांधली के आरोपों से घिरी भाजपा, मुख्यमंत्री बोले- “नाच न जानें आंगन टेढ़ा”

Google News
Google News

- Advertisement -

चंडीगढ़। मेयर चुनाव को लेकर विपक्ष द्वारा पीठासीन अधिकारी पर धांधली का आरोप लगाया जा रहा है। इस दौरान आप और कांग्रेस द्वारा लगाए गए आरोपों पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने एक मुहावरे के जरिए आरोप लगाने वाले दलों पर निशाना साधते हुए कहा कि ” नाच न जानें आंगन टेढ़ा” उनके साथ जनमत नहीं हैं, इसलिए भाजपा का मेयर बना है। इसके साथ मुख्यमंत्री ने दिल्ली के सीएम पर निशाना साधते हुए कहा कि वह हमारी चिंता छोड़ दें, राजनीति करते रहें, उनको अपनी छाप छोड़ने की बजाय जनता नकार दे तो अच्छा है।

मेयर चुनाव का गणित
दरअसल बीते दिनों चंडीगढ़ मेयर का चुनाव हुआ जिसमें पार्षदों को वोट देना था। चंडीगढ़ में भाजपा के 15 पार्षद और एक सांसद यानी कुल 16 वोट थे। इंडिया गठबंधन की बात करें जिसमें आप और कांग्रेस के पार्षदों को मिलाकर संख्याबल 20 थी। सिंपल गणित के अनुसार इंडिया गठंबंधन के पास पार्षदों की संख्या अधिक होने के कारण जीत तय मानी जा रही थी। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। चुनावी नतीजे में भाजपा प्रत्यासी की जीत हो गई। वोटों की गिनती के दौरान आप और कांग्रेस पार्षदों के 8 वोट पीठासीन अधिकारी ने अवैध घोषित कर दिया। जिसके बाद मतगणना स्थल पर जमकर बवाल हुआ।

यह भी पढ़ें : Haryana: अब कैदियों को मिलेगा डिजिटल पैरोल, नए फैसले पर क्या है आपकी राय?

छोटे चुनाव में धांधली तो बड़े चुनावों में कैसे करें विश्वासः केजरीवाल
वहीं इसी मामले को लेकर कांग्रेस और आप के तमाम नेता भाजपा पर हमलावर हैं। मेयर चुनाव में धांधली का आरोप लगाते हुए दिल्ली के सीएम आप संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा के जब मेयर के छोटे से चुनाव में भाजपा धांधली कर रही है, तो अन्य चुनावों के नतीजों पर कैसे विश्वास किया जाए। उसमें करीब 90 करोड़ वोट पड़ती हैं।

मेयर चुनाव में भाजपा ने की लोकतंत्र की हत्याः राहुल गांधी
मेयर चुनाव को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट कर लिखा कि “जो BJP मेयर चुनाव में पूरी दुनिया के सामने लोकतंत्र की हत्या कर सकती है, वो दिल्ली की सत्ता में बने रहने के लिए क्या करेगी यह कल्पना से परे है। वर्षों पहले आज ही के दिन गोडसे ने गांधी जी की हत्या की थी और आज ही गोडसेवादियों ने उनके आदर्शों और संवैधानिक मूल्यों की बलि चढ़ा दी।”

जुड़े रहें : https://deshrojana.com/

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

Recent Comments