Wednesday, July 24, 2024
31.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeIndiaभारत की रॉ (RAW) एजेंसी के इन कामो से अमेरिका की CIA...

भारत की रॉ (RAW) एजेंसी के इन कामो से अमेरिका की CIA भी है हैरान।

Google News
Google News

- Advertisement -

रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) भारत की प्रमुख बाह्य खुफिया एजेंसी है। इसकी स्थापना 1968 में विदेशी देशों पर खुफिया जानकारी जुटाने और भारत को बाहरी खतरों से बचाने के लिए की गई थी।

रॉ एक अत्यधिक गोपनीय संगठन है और इसके कार्य रहस्य में डूबे हुए हैं। हालांकि, राष्ट्रीय सुरक्षा की रक्षा में इसकी भूमिका निर्विवाद है।

रॉ ने भारत की कई प्रमुख सुरक्षा सफलताओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जिसमें 1971 में बांग्लादेश मुक्ति संग्राम, 1999 में कारगिल युद्ध और 2016 में पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक शामिल हैं। रॉ ने कई आतंकवादी साजिशों को नाकाम करने और भारतीय धरती पर हमलों को रोकने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

रॉ की एक प्रमुख ताकत उसकी मानव खुफिया (HUMINT) संपत्तियों का नेटवर्क है। रॉ के पास दुनिया भर में जासूसों और मुखबिरों का एक बड़ा नेटवर्क है जो उसे विदेशी देशों और उनकी गतिविधियों पर बहुमूल्य जानकारी प्रदान करता है।

Meet the Indian RAW agent who served as a major in the Pakistan army

रॉ के पास एक मजबूत तकनीकी खुफिया (TECHINT) क्षमता भी है, जो उसे संचार को रोकने और अन्य इलेक्ट्रॉनिक स्रोतों से खुफिया जानकारी इकट्ठा करने की अनुमति देता है।

रॉ के कार्य अत्यधिक परिष्कृत और जटिल हैं। रॉ के अधिकारियों को अक्सर प्रतिकूल वातावरण में काम करना पड़ता है और अपनी जान को बड़ा जोखिम लेना पड़ता है।

रॉ ने अपने कर्तव्य के पालन में कई अधिकारियों को खो दिया है, लेकिन वे समर्पण और बलिदान के साथ देश की सेवा करना जारी रखते हैं।

यहां रॉ के कुछ अच्छे कार्यों के उदाहरण दिए गए हैं:

  • 1971 में, रॉ ने बांग्लादेश मुक्ति संग्राम में भारत की जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। रॉ के गुर्गों ने बांग्लादेशी मुक्ति बहिनी को खुफिया और समर्थन प्रदान किया, जो पाकिस्तान से बांग्लादेश की मुक्ति के लिए लड़ रहा था।
  • 1999 में, रॉ ने जम्मू और कश्मीर के कारगिल सेक्टर में पाकिस्तानी सेना की घुसपैठ पर समय पर खुफिया जानकारी प्रदान की। इस खुफिया जानकारी ने भारतीय सेना को एक सफल जवाबी हमला शुरू करने और कारगिल की ऊंचाइयों को फिर से लेने में मदद की।
Indo-Pakistani War of 1971 - Wikipedia
  • 2016 में, रॉ ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में आतंकी शिविरों के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक किए। ये हमले पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूहों के लिए एक बड़ा झटका थे और पाकिस्तान को एक कड़ा संदेश भेजा था।

रॉ देश का एक मूक रक्षक है। यह बाहरी खतरों से भारत की रक्षा के लिए अथक रूप से काम करता है। रॉ के अधिकारी देश के कुछ सबसे बहादुर और समर्पित लोग हैं। वे हमारे सम्मान और कृतज्ञता के पात्र हैं।

उपरोक्त उदाहरणों के अलावा, रॉ को भी श्रेय दिया गया है:

  • 1981 में एयर इंडिया फ्लाइट 405 के अपहरण को नाकाम करना
  • 1988 में मास्को में भारतीय दूतावास की बमबारी को रोकना
  • 1990 के दशक में पंजाब में आईएसआई समर्थित खालिस्तानी उग्रवादियों को निष्क्रिय करना
  • 2011 में अमेरिकी नौसेना के सील द्वारा उनकी हत्या के लिए ओसामा बिन लादेन के ठिकाने के बारे में खुफिया जानकारी प्रदान करना

रॉ भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए एक महत्वपूर्ण संपत्ति है। यह बाहरी खतरों से देश की रक्षा और दुनिया भर में भारत के सामरिक हितों को बढ़ावा देने में एक प्रमुख भूमिका निभाता है।

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

Budget 2024 : बजट में रोजगार, कौशल, एमएसएमई और मध्यम वर्ग पर ध्यान

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार को लोकसभा में चालू वित्त वर्ष 2024-25 के लिए पूर्ण बजट(Budget 2024 : ) पेश किया। बैंगनी किनारे...

वैज्ञानिक बेंजामिन फ्रेंकलिन की उदारता

बेंजामिन फ्रेंकलिन उस व्यक्ति का नाम है जिसने मानवजाति की बहुत बड़ी सेवा की। वह अमेरिकी इतिहास के एक ऐसे पुरुष हैं जो प्रसिद्ध लेखक, मुद्रक,...

Skin Care: बारिश की चिपचिपाहट में भी खिला खिला रहेगा चेहरा, अपनाएं ये टिप्स

बारिश शुरू होते ही आग वाली गर्मी से राहत तो मिलती है, लेकिन चिपचिपाती गर्मी से लोग हो जाते हैं बेहाल। ऐसे में कई...

Recent Comments