Sunday, May 19, 2024
40.7 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeEDITORIAL News in Hindiअहंकार में पकड़ा गया मूर्तिकार

अहंकार में पकड़ा गया मूर्तिकार

Google News
Google News

- Advertisement -

अहंकार मनुष्य को कहीं का नहीं छोड़ता है। अहंकारी व्यक्ति कभी सुखी नहीं रह सकता है। यही वजह है कि हमारे पुरखों ने हमेशा अहंकार से दूर रहने की शिक्षा दी है। यदि मूर्तिकार में अहंकार नहीं होता, तो वह शायद मृत्यु से भी बच जाता, लेकिन उसका अहंकार ही उसे ले डूबा। काफी समय पहले की बात है। किसी गांव में एक मूर्तिकार रहता था। वह इतनी सुंदर मूर्तियां बनाता था कि उनके जीवित होने का भ्रम पैदा होता था। धीरे-धीरे उसका चारों ओर नाम हो गया।

राजा महाराजा तक उसकी कला के प्रशंसक हो गए। धीरे-धीरे उसे अपनी कला पर अहंकार हो गया। इस बीच उसने धन भी काफी कमा लिया था। धीरे-धीरे समय बीतता रहा। वह वृद्ध हो गया, तो उसने सोचा कि अब उसकी किसी भी दिन मृत्यु हो सकती है। उसने अपनी जैसी ही दस मूर्तियां बनाई और वह उनमें छिपकर बैठ गया। अपने समय पर यमदूत आए, तो ग्यारह मूर्तियां देखकर वे चकित रह गए।

यह भी पढ़ें : पप्पू यादव और कन्हैया कुमार से भयभीत क्यों लालू यादव?

उन्होंने सोचा कि मूर्तियों को तोड़ दूं, लेकिन यह कला का अपमान होता। थोड़ी देर बाद एक यमदूत ने कहा कि यह ग्यारह मूर्तियां बनीं तो बहुत अच्छी है, लेकिन एक गल्ती रह गई। अब मूर्तिकार का अहंकार जागा, उसने कहा कि कौन सी गलती रह गई है। यमदूत ने उसे पकड़ते हुए कहा कि यही गलती हो गई। तुम अपने अहंकार की वजह से ही पकड़े गए हो। यदि तुम चुप रहते तो हम असली नकली का भेद नहीं कर पा रहे थे। शायद हम लौट भी जाते, लेकिन तुम अपने दुर्गुण की वजह से ही पकड़े गए हो। अब मूर्तिकार के पास सिर्फपछतावा था।

Ashok Mishra

-अशोक मिश्र

लेटेस्ट खबरों के लिए क्लिक करें : https://deshrojana.com/

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

Kangana Ranaut: मंडी से चुनाव जीती तो क्या चाहती है कंगना रनौत, बोली अगर ऐसा हुआ तो..

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत (Kangana Ranaut) इन दिनों राजनीतिक गलियारों में नज़र आ रही है लोकसभा चुनाव (loksabha Election) में कंगना बीजेपी (BJP) की...

अरविंद केजरीवाल ने बहुत सोच समझकर चुनौती दी है

इसमें कोई दो राय नहीं है कि दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल कुशल राजनीतिज्ञ हैं। वह माहौल को अपने पक्ष में कैसे बदला जाए,...

सीवी रमन बोले, मुझे ईमानदार वैज्ञानिक चाहिए

प्रकाश प्रकीर्णन के क्षेत्र में खोज करने के लिए विख्यात सर चंद्रशेखर वेंकट रमन का जन्म 7 नवंबर 1888 में हुआ था। सर सीवी रमन...

Recent Comments