Wednesday, May 22, 2024
40.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeEDITORIAL News in Hindiबहू बोली, कोठार में भरे हैं आपके पांच दाने

बहू बोली, कोठार में भरे हैं आपके पांच दाने

Google News
Google News

- Advertisement -

राजगृह में एक धनी सेठ रहता था। उसने अपने जीवन में काफी धन कमाया था। उसने उस धन का उपयोग लोगों की भलाई में भी किया था। पथिकों आते-जाते समय किसी प्रकार की परेशानी न हो, इसलिए कई पौशालाएं खुलवाई थीं। उसने सराय बनवाई, कई जगहों पर चिकित्सालय भी खुलवाए। इन चिकित्सालयों में रोगियों से कोई शुल्क नहीं लिया जाता था। एक दिन सेठ पर व्रजपात हुआ। उसकी पत्नी असमय चल बसी। उसके चार बेटे थे। उसने समय पर सबका विवाह कर दिया था। उसकी चारों बहुएं रूपवती और शालीन थीं। पत्नी की मौत के बाद वह घर की जिम्मेदारी अपनी किसी एक बहू को सौंपकर निश्चिंत हो जाना चाहता था।

एक दिन उसने अपनी चारों बहुओं को बुलाकर उन्हें पांच-पांच देने धान के दिए और कहा कि वह समय आने पर इन दानों को मांग लेगा। आप लोग इसे सुरक्षित रखें। पहली दो बहुओं ने सोचा कि जब घर में धान का भंडार भरा है, तो फिर इन पांच दानों को सहेजने की क्या जरूरत है। उन दोनों ने सोचा कि जब ससुर जी दानों को मांगेंगे, तो वह भंडार से पांच दाने निकाल कर दे देंगी। यही सोचकर उन्होंने दाने फेंक दिए। तीसरी ने सोचा कि इसका क्या किया जाए। फिर उसने उन्हें बो दिए। बाद में जो दाने मिले,उन्हें भी बो दिए।

यह भी पढ़ें : संजय मांजरेकर जी! बोलने से पहले सोच तो लेते

इस तरह हर साल धान के बीज बढ़ते रहे। पांच साल बाद एक दिन सेठ ने अपनी बहुओं को बुलाकर दाने वापस मांगे, तो तीन बहुओं ने पांच-पांच दाने उसके हाथ पर रख दिए। चौथी बहू ने कहा कि पिताजी, आपके पांच दाने कोठार में भरे हैं। उस कोठार को ला पाने का सामर्थ्य मेरे पास नहीं है। यह सुनकर सेठ बहुत प्रसन्न हुआ। उसने अपनी उस बहू को घर की जिम्मेदारी सौंपकर निश्चिंत हो गया।

Ashok Mishra

-अशोक मिश्र

लेटेस्ट खबरों के लिए क्लिक करें : https://deshrojana.com/

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

राष्ट्रपति रईसी की मौत पर ईरान में खुशी भी, गम भी

ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी की हेलिकॉप्टर दुर्घटना में हुई मौत के बाद दो तरह की प्रतिक्रियाएं व्यक्त की जा रही हैं। ईरान और...

कभी खाई है लौकी की खीर, स्वाद के आगे भूल जाएंगे सब कुछ

मीठे के दीवाने कई लोग है लेकिन रोज-रोज आप एक ही तरह का मीठा नहीं खा सकते इसलिए बदल -बदल कर क्या बनाए ये...

अब तो चुनाव को लेकर बदलने लगा मतदाताओं का मिजाज

लोकसभा चुनाव का परिदृश्य ही इस बार बदला हुआ नजर आ रहा है। लग ही नहीं रहा है कि यह लोकसभा चुनाव का माहौल...

Recent Comments