Thursday, June 20, 2024
39.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeHARYANAFaridabadपोस्टर बनाकर प्राथमिक चिकित्सा के प्रति किया जागरूक

पोस्टर बनाकर प्राथमिक चिकित्सा के प्रति किया जागरूक

Google News
Google News

- Advertisement -

देश रोजाना, फरीदाबाद

राजकीय आदर्श वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय सराय ख्वाजा फरीदाबाद में प्राचार्य रविंद्र कुमार मनचन्दा की अध्यक्षता में जूनियर रेडक्रॉस और सैंट जॉन एंबुलेंस ब्रिगेड एवं गाइड्स ने वर्ल्ड फर्स्ट एड डे पर विशेष कार्यक्रम आयोजित किया। जूनियर रेडक्रॉस और ब्रिगेड प्रभारी प्राचार्य रविंद्र कुमार मनचन्दा ने कहा कि वर्ल्ड फर्स्ट एड डे जोकि ग्लोबल कार्यक्रम है। सितंबर माह के दूसरे शनिवार को आयोजित किया जाता है। जिसे वर्ष 2000 से प्रत्येक वर्ष मनाया जाता है। प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी फर्स्ट ऐड डे की थीम निर्धारित की गई है।

प्राचार्य रविंद्र कुमार मनचन्दा ने बताया कि फर्स्ट एड अर्थात पहली सहायता का तात्पर्य किसी घायल व्यक्ति को मेडिकल हेल्प मिलने से पहले दी जाने वाली सहायता। बहुत से व्यक्ति प्राथमिक उपचार नहीं मिलने पर जीवन से हाथ धो बैठते हैं। ऐसा सामान्यत: उस अवस्था में होता है जब शरीर से अत्यधिक खून बहने लगता है। इस स्थिति में खून को बहने से रोकना, घाव होने पर उस पर मलहम, पट्टी करना आदि से घायल अथवा रोगी का जीवन बचाया जा सकता है। इस वर्ष फर्स्ट एड इन डिजिटल वर्ल्ड थीम तय की गई है। जेआरसी और सैंट जॉन एम्बुलेंस ब्रिगेड के तत्वाधान में विद्यालय में प्राचार्य रविंद्र कुमार मनचन्दा और प्राध्यापिका गीता ने छात्राओं को बेहोशी की अवस्था में क्या प्राथमिक उपचार दिया जाना चाहिए, उसके बारी में बताया।

इस दौरान प्राचार्य रविंद्र कुमार मनचन्दा ने उन्हें रिकवरी पोजिशन के बारे में भी बताया। उन्होंने छात्राओं को बताया कि यातायात दुर्घटनाओं से हर तीस सेकंड में एक व्यक्ति की मृत्यु होती है। इनमें प्राथमिक उपचार न मिल पाने के कारण दुर्घटनाग्रस्त स्थिति में होने वाली मृत्यु की संख्या पचास प्रतिशत से अधिक होती हैं। इस समस्या से समाधान पाने का सबसे सरल उपाय है कि सभी को प्राथमिक सहायता के लिए जागरूक किया जाए। क्योंकि इस प्रकार होने वाली जीवन हानि में से अधिकांश को रोका जा सकता है। प्राथमिक चिकित्सा की जानकारी दुर्घटनाओं और गंभीर चोट में रोकथाम पर नागरिकों को शिक्षित करता है और आपात स्थिति को हल करने के लिए कौशल देता है। दुनिया में होने वाली मौतों में सड़क दुर्घटना नौवां प्रमुख कारण है। हर वर्ष 13 लाख से अधिक व्यक्ति सड़क दुर्घटनाओं में  प्राथमिक उपचार के अभाव में मारे जाते हैं। इनमें अधिकतर मौतें ऑक्सिजन न मिल पाने के कारण से होती हैं। घर और गाड़ी में अपने साथ हमेशा प्राथमिक उपचार किट रखें। डूबने, जलने, हृदयघात, सड़क दुर्घटना और आत्मघात में प्राथमिक उपचार से जान बचाई जा सकती है। प्राथमिक उपचार प्रशिक्षण लेने के बाद ही दिया जा सकता है। प्राचार्य रविंद्र कुमार मनचन्दा और प्राध्यापिका गीता ने प्राथमिक चिकित्सा पर पोस्टर बनाकर फर्स्ट ऐड की महत्ता को दशार्ने वाली छात्राओं प्रीति, काजल, चेयन्या, कोमल, सिया सहित सभी छात्राओं को सम्मानित किया और प्राथमिक उपचार की सभी विधियों का प्रशिक्षण लेने के लिए प्रेरित किया।

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

हरियाणा में सस्ती क्यों नहीं हो सकती एमबीबीएस की पढ़ाई?

हरियाणा सरकार ने विदेश से एमबीबीएस की डिग्री लेकर आए डॉक्टरों के लिए दो से तीन साल की इंटर्नशिप अनिवार्य कर दी है। प्रदेश...

पाप का गुरु मन में बैठा लोभ है

प्राचीनकाल में किसी गांव में एक पंडित जी रहते थे। वह नियम धर्म के बहुत पक्के थे। किसी के हाथ का छुआ पानी तक नहीं पीते...

दक्षिण भारत को प्रियंका और उत्तर प्रदेश को संभालेंगे राहुल

आखिरकार राहुल गांधी ने वायनाड सीट छोड़ने और अपनी बहन प्रियंका गांधी को वायनाड से लड़ाने का फैसला कर ही लिया। इस बात की...

Recent Comments