Friday, June 14, 2024
36.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeHARYANAलालद्वारा मंदिर में अनुयायियों ने की बाबा लाल दयाल जी की पूजा-अर्चना

लालद्वारा मंदिर में अनुयायियों ने की बाबा लाल दयाल जी की पूजा-अर्चना

Google News
Google News

- Advertisement -

कुरुक्षेत्र। वशिष्ठ कॉलोनी स्थित लालद्वारा मंदिर में वैष्णवाचार्य, अन्नतविभूषित योगीराज बाबा लाल दयाल जी महाराज का 669वां जन्मोत्सव हर्षोल्लास से संपन्न हुआ। सुबह हवन आयोजित किया गया जिसमें मुख्य यजमान अशोक भारद्वाज,अमित शर्मा,विनीत शर्मा परिवार के सभी सदस्यों ने आहुतियां दी। वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ मंदिर कमेटी के प्रधान केवल कृष्ण पाठक की अध्यक्षता में विधायक सुभाष सुधा ने बतौर मुख्यातिथि ध्वजारोहण किया। मंदिर कमेटी के सभी सदस्यों ने विधायक सुधा का स्वागत करके स्मृति चिन्ह प्रदान किया।

Pandit Deepak Mishra

सतगुरू बाबा लाल दयाल

इस मौके पर गायकों द्वारा सुनाए गए भजन बुहा खोल दे मंदरां दे पहरेदारा कि असां वी दीदार करना और अज्ज जन्मदिन सतगुरू जी दा, संगता देन वधाईयां, वेख के मुखड़ा सतगुरू जी दा, सबने रौणकां लाईयां….. सुनाकर समां बांधा। इसके बाद भक्ति प्रवचनों में पंडित दीपक मिश्र ने कहा कि सतगुरू बाबा लाल दयाल जी ऐसे महापुरूष हुए है, जिनका चिंतन और दर्शन विश्व के लिए नवीन मार्ग प्रशस्त करता है। महान विद्वान, परोपकारी व महायोगी लाल दयाल जी का जन्म लाहौर के निकट कसूर प्रांत (अब पाकिस्तान)में सम्वत् 1412 में हुआ। कहा जाता है कि वें अपनी भक्ति एवं योग विद्या के बल से 300 वर्ष तक जीवित रहे। उन्होंने अपना सम्पूर्ण जीवन मानवता की भलाई में समर्पित कर दिया। धर्म प्रचार हेतु मात्र 12 वर्ष की अल्पायु में उन्होंने सहारनपुर (उत्तरप्रदेश) में रहकर 100 वर्ष तक कठोर तपस्या की। उनकी ओजस्वी वाणी और उपदेश से प्रभावित होकर हजारों की संख्या में लोग उनके अनुयायी बने।

preaching religion

यह भी पढ़ें :  सभी कर्मचारी संगठनों के समर्थन से होगी ऐतिहासिक रैली : नरेश फूले

श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण

बाबा जी ने धर्म प्रचार के लिए अपने 22 शिष्यों को विभिन्न स्थानों पर गद्दीनशीन किया। जिसमें अफगानिस्तान के शहर काबुल, गजनी, पाकिस्तान के शहर सरगोधा, गुजरांवाला, लाहौर, मुलतान, झंग, सनखेतरा और पेशावर प्रमुख है। भारत के भी कई स्थानों पर इनके अनुयायी बने, जिसमें पंजाब के ध्यानपुर साहिब, रामपुर-दातारपुर और अमृतसर में 3 सक्रिय गद्दियां स्थापित हैं। प्रवचनों के बाद विशाल भंडारे में श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण किया। इस अवसर पर प्रधान केवल कृष्ण पाठक, उप प्रधान अशोक भारद्वाज, सचिव वेद आनंद, कैशियर जगदीश भास्कर,ऑडिटर एस के कपिला, कुलदीप भास्कर, ओम प्रकाश लालका,राकेश शर्मा,गुलशन भाम्बा,सतीश गुलाटी,शिवकुमार शर्मा,आर.के.गुलाटी,श्याम जुनेजा और राकेश सूरी सहित बड़ी संख्या में महिला श्रद्धालु शामिल रहीं।

खबरों के लिए जुड़े रहे: https://deshrojana.com/

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

एक दिन पूरी दुनिया को ले डूबेगा जलवायु परिवर्तन

पूरा उत्तर भारत तप रहा है। यह तपन जलवायु परिवर्तन के कारण है। इस तपन के कारण मानव क्षति भी हो रही है और आर्थिक क्षति भी।...

माहौल खराब करने से बेहतर आप और कांग्रेस बातचीत करें

इन दिनों हरियाणा के राजनीतिक परिदृश्य में इंडिया गठबंधन के बिखरने की बात कही जा रही है। इस बात को भाजपा नेता बड़ी जोरशोर...

संत नामदेव ने छाल की तरह अपनी खाल उतारी

महाराष्ट्र के संत नामदेव ने जीवन भर प्रभु भक्ति और समता का प्रचार किया। वह अपने समय के प्रसिद्ध संत ज्ञानेश्वर के साथ उत्तर...

Recent Comments