Thursday, June 20, 2024
30.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeHARYANAरेवाड़ी बार ने अपने छह सदस्यों की सदस्यता को किया प्रतिबंधित

रेवाड़ी बार ने अपने छह सदस्यों की सदस्यता को किया प्रतिबंधित

Google News
Google News

- Advertisement -

रेवाड़ी। जिला बार एसोसिएशन रेवाड़ी की ओर से उठाए गए एक सख्त कदम के तहत उक्त बार ने अपने छह सदस्यों की सदस्यता को प्रतिबंधित कर दिया है। यह निर्णय मौजूदा रेवाड़ी बार टीम ने सर्वसम्मति से लिया है। इस संबंध में आज बार रूम के सूचना पट पर एक सूचना भी चस्पा कर दी गई। शुक्रवार को रेवाड़ी बार के प्रधान विश्वामित्र की मौजूदगी में आज यहां आयोजित प्रैस वार्ता में उक्त निर्णय की जानकारी मीडिया कर्मियों को दी गई। बता दें कि रेवाड़ी बार की पूर्वकाल में बुलाई गई एक बैठक में बार के छह नामित सदस्यों के व्यवहार पर सवाल उठाते हुए इन सभी को बार ने इनके व्यवहार को लेकर कारण बताओ नोटिस जारी कर इस सभी को इस मामले में अपना जवाब देने का मौका दिया गया था।

यह भी पढ़ें :  डाॅ. हरिओम का गुरुकुल द्वारा भव्य अभिनन्दन

एसोसिएशन के प्रधान

सूचना में साफ तौर पर कहा

अब तक जवाब नहीं दिए जाने की सूरत में 8 फरवरी को रेवाड़ी बार ने यह अहम निर्णय लेकर इससे संबंधी एक जरूरी सूचना जारी कर दी। इस सूचना में साफ तौर पर कहा गया कि इस बार की ओर से सभी वकीलों को दी जाने वाली सुविधाएं, रेवाड़ी बार के इन छह सदस्यों से वापस ले ली गई हैं।
इस सूचना पर जिला बार एसोसिएशन के प्रधान समेत अन्य पदाधिकारियों के हस्ताक्षर अंकित हैं। इस सूचना में पूर्व बार प्रधान शमशेर सिंह यादव, बीएल खोला, प्रवेश हरित, देवेंद्र यादव, प्रवीन कुमार और आकाश यादव के नाम शामिल हैं।

खबरों के लिए जुड़े रहें : https://deshrojana.com/

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

हरियाणा में सस्ती क्यों नहीं हो सकती एमबीबीएस की पढ़ाई?

हरियाणा सरकार ने विदेश से एमबीबीएस की डिग्री लेकर आए डॉक्टरों के लिए दो से तीन साल की इंटर्नशिप अनिवार्य कर दी है। प्रदेश...

किरण चौधरी ने क्यों छोड़ा हरियाणा कांग्रेस का साथ, क्या रहे अंदरूनी कारण?

हरियाणा की राजनीती में अपनी छाप छोड़ने वाले पूर्व मुख्यमंत्री बंसी लाल की पुत्रवधु किरण चौधरी ने हरियाणा कांग्रेस का साथ छोड़ अपना रास्ता...

पाप का गुरु मन में बैठा लोभ है

प्राचीनकाल में किसी गांव में एक पंडित जी रहते थे। वह नियम धर्म के बहुत पक्के थे। किसी के हाथ का छुआ पानी तक नहीं पीते...

Recent Comments