Monday, May 27, 2024
44.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeHARYANAFaridabadमॉडर्न बीपी स्कूल के नन्हे वैज्ञानिक डीसी से सम्मानित

मॉडर्न बीपी स्कूल के नन्हे वैज्ञानिक डीसी से सम्मानित

Google News
Google News

- Advertisement -

देशभर के 1245 स्कूलों के 1756 मॉडलों में हरियाणा प्रदेश व जिले का नाम रोशन करते हुए मॉडर्न बीपी स्कूल ने बैंगलौर के यंग सार्इं टिस्ट सार्इंस कलैक्शन में फिर से अपना परचम लहराया है। जिसमें सेक्टर-23 स्थित संजय कालोनी के मॉडर्न बीपी पब्लिक स्कूल के विद्यार्थियों को प्रतियेगिता में पहला, दूसरा और तीसरा स्थान नन्हें वैज्ञानिक के रूप में प्राप्त किया है। इसे देखते हुए जिला उपायुक्त ने अपने कार्यालय में बच्चों को बुलाकर सम्मानित किया है। वहीं दूसरी तरफ स्कूल के चेयरमैन ओपी परमार और प्रिंसीपल जितेन्द्र परमार ने यंग सार्इंटिस्ट सार्इंस कलेक्शन का खिताब पाने पर बच्चों को बधाई दी, साथ ही उन्हें इसी तरह से आगे बढ़ते रहने के लिए प्रेरित किया।

मॉडर्न बीपी पब्लिक स्कूल के प्रिंसीपल जितेन्द्र परमार ने बताया कि नन्हें वैज्ञानिकों ने यंग सार्इंटिस सार्इंस कान्कलेव में एक बार फिर से अपना परचम लहराया है। स्कूल के छात्र सचिन ने गंदे पानी को चारकोल और फिटकरी के प्रयोग से पीने लायक पानी बनाया है तो वहीं बिना वायर के वायरलैस ट्रांसमिशन बॉकर बनाने पर अमित को दूसरा स्थान मिला है।

ऋषभ ने सें सटेबल एनर्जी एंड एनर्जी स्टोरेज बनाकर तीसरा स्थान हासिल किया है। उन्होंने बताया कि यह प्रतियोगिता Online हुई थी। जिसमें देश भर समेत हरियाणा औरफरीदाबाद के सभीसीबीएसईस्कूलों ने भाग लिया था।देशभर के 1245 स्कूलों ने 1756 मॉडल बनाकर इस प्रतियोगिता में वीडियों और मॉडल कोरियर किए थे। जिसमें स्कूल को 15 टॉपस्कूलों में पहला, दूसराऔर तीसरा स्थान मिला है। इन मॉडलों को तैयार करवाने में स्कूल के कैमेस्ट्री के अध्यापक अमित और फिजिक्स के अध्यापक नवीन जोशी ने बच्चों का सहयोग किया था।

पहला स्थान:

जितेन्द्र परमार ने बताया कि सचिन ने Purification of Water मॉडल बनाया और पहला स्थान लिया। जिसमें उन्होंने फिटकरी के पानी और चारकौल के पाउडर से एक ऐसीरॉड तैयार की है जोकि पानी को पीने लायक बनाती है।

दूसरा स्थान:

प्रिंसीपल ने बताया कि अमित ने वायरलैस ट्रांसमिशन को तैयार करके दूसरा स्थान हासिल किया है। उसने दो ताम्बे की तार को बिजली के लिए कोयलों के जरिये म्यूचल इंडेक्शन तैयार किया है।

तीसरा स्थान:

उन्होंने बताया कि ऋषभ ने सेंसटेबल एनर्जी एंड एनर्जी स्टोरेज के लिए तीसरा स्थान हासिल किया है। उसने बैंट्री के बजाय प्लास्टिक में बिजली स्टोरेज करने का मॉडल तैयार किया है, जिसमें 12, 24, 25 वोल्ट तक स्टोरेज कर दो वायर लगाकर स्टोरेज बिजली का इस्तेमाल किया जा सकता है।

कविता

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

Recent Comments