Monday, May 27, 2024
34.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeIndiaमुंबई लोकल ट्रेन में योग कर रहे लोगों को AIMIM के नेता...

मुंबई लोकल ट्रेन में योग कर रहे लोगों को AIMIM के नेता ने आखिर क्यों कसा तंज, जानिए पूरा मामला

Google News
Google News

- Advertisement -

सांसद असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM के नेता वारिस पठान ने ट्विटर पर एक वीडियो शेयर करते हुए मुंबई लोकल में लोगों के योग करने को लेकर तंज कसा। दरअसल पूरे विश्व में 21 जून को मनाए जाने वाले अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर समाचार एजेंसी एएनआई ने ट्विटर पर गुरुवार को एक वीडियो शेयर किया था इस वीडियो में लोग योग करते हुए नजर आ रहे है। इसके साथ ही एएनआई ने अपनी पोस्ट में लिखा कि यात्रा करने वाले यात्रियों ने मुंबई लोकल में योग दिवस के मौके पर किया योग। जिसके बाद AIMIM पार्टी के नेता वारिस पठान ने इस वीडियो को रीट्वीट करते हुए लिखा कि योग की इजाज़त है नमाज़ की नहीं।

देश के विभिन्न राज्यों में मनाया गया योग दिवस
बुधवार को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर पूरे देश के विभिन्न राज्यों में पूरे उत्साह के साथ योग दिवस मनाया गया। महाराष्ट्र सरकार ने इस मौके पर राज्य सरकार के अधीन संचालित सभी मेडिकल कॉलेजों में योग केंद्रों की स्थापना करने का ऐलान किया। वहीं पश्चिम बंगाक में भी कई स्कूल कॉलेजों में योगाभ्यास किया गया। इसके अलावा कोलकाता के राजभवन में भी एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया, राज्यपाल सी.वी. आनंद बोस ने जहां स्कूली छात्रों और अधिकारियों के साथ योग सत्र में भाग लिया।

जम्मू-कश्मीर के डोडा जिले में 5,000 से अधिक लोगों ने पुलिस अधिकारियों और सैलानियों सहित योगाभ्यास किया। वहीं कश्मीर में स्थानीय निवासियों व खानाबदोश गुर्जरों द्वारा 7,850 फुट की ऊंचाई पर स्थित जयघाटी में योगाभ्यास करने वाले सैलानियों का स्वागत किया गया। अधिकारियों के मुताबिक पूरी चिनाब घाटी (डोडा, किश्तवाड़ और रामबन जिले समेत) में होने वाली यह सबसे बड़ी सभा थी।

केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने तिरुवनंतपुरम के राजभवन में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस समारोह का नेतृत्व किया। जिसके बाद खान ने ट्वीट करते हुए लिखा कि योग मन को शुद्ध करता है और यह चिंतन के माध्यम से शारीरिक कल्याण व आंतरिक शांति के लिए बेहतर मार्ग है। असम के राज्यपाल गुलाब चंद कटारिया ने कहा कि योग को संजोकर रखना चाहिए और प्राचीन भारतीय परंपरा के एक अमूल्य उपहार के रूप में आने वाली पीढ़ियों को देना चाहिए।

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

Recent Comments