Wednesday, June 19, 2024
38.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeEDITORIAL News in Hindiकोंडदेव ने आजीवन पहना बिना बांह का कुर्ता

कोंडदेव ने आजीवन पहना बिना बांह का कुर्ता

Google News
Google News

- Advertisement -

दादोजी कोंडदेव ने मराठा साम्राज्य के संस्थापक छत्रपति शिवाजी को सैन्य और धार्मिक शिक्षा दी थी। शिवाजी के पिता शाहजी की पूना की जागीर और उनके परिवार की देखभाल और सुरक्षा की जिम्मेदारी दादोजी कोंडदेव को सौंपी गई थी। कोंडदेव ने ही युवा शिवाजी के मन में दूसरों का आदर करने और न्याय पथ से कभी न डिगने की प्रेरणा और शिक्षा दी थी। कहा जाता है कि वे चकबंदी के मामले में बहुत बड़े विशेषज्ञ थे।

इनकी देखभाल में पूना प्रांत में खेती किसानी में काफी हद तक सुधार हुआ। हर साल फसल होने पर अनाज के रूप में लगान लेने की व्यवस्था दादोजी कोंडदेव ने ही शुरू की थी, जिसको बाद में पूरे देश में अंग्रेजों ने लागू किया था। कहा जाता है कि एक बार वे दरबार से घर जा रहे थे। रास्ते में शिवाजी का एक बाग पड़ता था। उस बाग में उन्नत किस्म के आम लगे हुए थे। उन आमों को देखकर कोंडदेव जी का मन ललचा गया। उनके कदम ठिठक गए। उन्होंने एक बार सोचा कि इसके बारे में शिवाजी महाराज से इजाजत ले ली जाए, लेकिन फिर मन में आया कि अब दरबार में कौन लौटकर जाए। उन्होंने कुछ आम तोड़े और घर ले जाकर पत्नी को दे दिया।

यह भी पढ़ें : भारतीय मसालों की साख पर बट्टा लगाती कंपनियां

उनकी पत्नी ने पूछा कि यह आम कहां से मिल गए? तब उन्होंने सारी बात बताई। यह सुनकर उनकी पत्नी ने कहा कि यह तो चोरी हुई? चोरी की सजा तो आप जानते हैं। नियम के मामले में काफी कठोर कोंडदेव ने अपने हाथ को काटने का निश्चय किया, लेकिन उनकी पत्नी ने उन्हें रोकते हुए कहा कि आज से प्रण कीजिए कि कभी चोरी नहीं करेंगे। इसके बाद उन्होंने अपने कुर्ते की दोनों बाहें काट दी। जीवन भर उन्होंने बिना बांह का कुर्ता पहना। लोगों ने जब इसका कारण पूछा, तो सारी घटना सच-सच बता दी।

Ashok Mishra

-अशोक मिश्र

लेटेस्ट खबरों के लिए क्लिक करें : https://deshrojana.com/

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

शिष्य को हुआ अपने ज्ञान का अहंकार

ज्ञानी होने का अहंकार जब किसी व्यक्ति में जागता है, तो वह अपने आपको विशिष्ट श्रेणी का मानकर व्यवहार करने लगता है। वह यह...

अभी नहीं चेते तो बूंद-बूंद पानी को तरसेंगे हरियाणा के लोग

हरियाणा में पेयजल की समस्या बढ़ती जा रही है। जून के महीने में पड़ती भीषण गर्मी ने लोगों का बहुत बुरा हाल कर रखा...

अगर सभी लोग सच बोलने लगें तो कैसा होगा समाज?

जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर ऋषभ देव से लेकर स्वामी महावीर तक ने कहा कि सत्य बोलो। महात्मा बुद्ध ने कहा, सत्य बोलो। सनातन धर्म के...

Recent Comments