Thursday, June 20, 2024
30.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeEDITORIAL News in Hindiदानशीलता के लिए याद किए जाते हैं रॉकफेलर

दानशीलता के लिए याद किए जाते हैं रॉकफेलर

Google News
Google News

- Advertisement -

अपनी मौत के लगभग नौ दशक बाद भी अमेरिकी कारोबारी जॉन डेविसन रॉकफेलर अपनी अमीरी के साथ-साथ दानशीलता के लिए याद किए जाते हैं। 8 जुलाई 1839 को अमेरिका के अपस्टेट न्यूयार्क में जन्मे जॉन डी रॉकफेलर ने अपना बचपन काफी गरीबी में गुजारा था। अपनी मेहनत, लगन और जुनून के चलते रॉकफेलर ने एक दिन अपने को अमेरिका के सबसे अमीर लोगों की श्रेणी में लाकर खड़ा कर दिया। जब वह छोटे थे, तो एक दिन अपने परिवार की आर्थिक स्थिति पर बात करती हुई उनकी मां ने कहा था कि देखो बेटा!

जो आदमी कड़ी मेहनत, धैर्यशीलता और आगे बढ़ने का जुनून पालता है, वह दुनिया में कुछ भी कर सकता है। आदमी को अपनी जरूरत भर का ही खर्च करना चाहिए, तभी वह कुछ संचय करके अमीर हो सकता है। जॉन डी रॉकफेलर ने अपनी मां की इस सीख को जीवन भर गांठ बांधकर रखा। जब वह सोलह साल के हुए तो उन्होंने एक दुकान पर पुस्तक बेचने का काम किया। इस काम के दौरान जॉन ने व्यवसाय के गुर सीखे। उन्होंने व्यवसाय को आगे बढ़ाने की कला सीखी। धीरे-धीरे वे व्यवसाय की बारीकियों को सीखते हुए आगे बढ़ते रहे।

यह भी पढ़ें : भगवान न करे, मुझे साम्राज्य मिले

सन 1859 में उन्होंने तेल व्यवसाय के क्षेत्र में कदम रखा। अपनी प्रतिभा और समझ के बल पर 1870 में स्टैंडर्ड आॅयल कंपनी बनाई। इस कंपनी ने धीरे-धीरे अमेरिका के तेल उद्योग के नब्बे फीसदी कारोबार पर कब्जा कर लिया। इस समय बाद जॉन रॉकफेलर ने अपनी कमाई का हिस्सा तमाम लोगों को दान करना शुरू कर दिया। शिक्षा, चिकित्सा जैसे क्षेत्र में उन्होंने बहुत दान किए ताकि लोगों को अच्छी और मुफ्त में चिकित्सा सुविधा मिल सके। गरीब बच्चों को अच्छी शिक्षा मिल सके। अपनी दानशीलता के लिए आज भी याद किए जाते है जॉन डी रॉकफेलर।

Ashok Mishra

-अशोक मिश्र

लेटेस्ट खबरों के लिए क्लिक करें : https://deshrojana.com/

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

हरियाणा में सस्ती क्यों नहीं हो सकती एमबीबीएस की पढ़ाई?

हरियाणा सरकार ने विदेश से एमबीबीएस की डिग्री लेकर आए डॉक्टरों के लिए दो से तीन साल की इंटर्नशिप अनिवार्य कर दी है। प्रदेश...

पाप का गुरु मन में बैठा लोभ है

प्राचीनकाल में किसी गांव में एक पंडित जी रहते थे। वह नियम धर्म के बहुत पक्के थे। किसी के हाथ का छुआ पानी तक नहीं पीते...

किरण चौधरी ने क्यों छोड़ा हरियाणा कांग्रेस का साथ, क्या रहे अंदरूनी कारण?

हरियाणा की राजनीती में अपनी छाप छोड़ने वाले पूर्व मुख्यमंत्री बंसी लाल की पुत्रवधु किरण चौधरी ने हरियाणा कांग्रेस का साथ छोड़ अपना रास्ता...

Recent Comments