Monday, May 27, 2024
34.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeHARYANAड्रेन में डाला कैमिकल, तो हुआ हादसा, झुलसे 500 से ज्‍यादा पशु

ड्रेन में डाला कैमिकल, तो हुआ हादसा, झुलसे 500 से ज्‍यादा पशु

Google News
Google News

- Advertisement -

रोहतक में स्थित ड्रेन नंबर 8बी में कुछ अनजान लोगो ने ज्वलनशील पदार्थो को मिला दिया | इन ज्वलनशील पदार्थो के कारण बखेता गांव  के करीब 500 से ज्यादा पशु झुलस गए | ज्वलनशील  पदार्थो का शिकार हुए पशुओ में से 10  की अबतक मृत्यु हो चुकी है| पशुओ के साथ ग्रामीणों की भी त्वचा खराब हो गई है| सारी घटना की शिकायत पुलिस को दी गई| सरपंच की शिकायत के आधार पर अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है|

बखेता गांव  की सरपंच अंजू ने पुलिस को जानकारी देते हुए बताया की गांव रोहतक की ड्रेन नंबर 8बी गोहाना की तरफ से होती हुई खरखौदा की तरफ निकलती है| दो कच्चे घाट गांव के पास बनाये हुए है, जिनमे से एक सिलाना रोड व दूसरा सिसाना रोड के पास बना हुआ है| सरपंच ने बताते हुए कहां की गांव के सभी लोग अपने पशुओ को नहलाने और पानी पिलाने यही लाते है|  

पशुओ के साथ ग्रामीण भी हुए शिकार   

सभी लोगो का कहना है की किसी अनजान व्यक्ति ने पीछे से ही ड्रेन नंबर 8बी मे  ज्वलनशील पर्दार्थ डाल दिया| इसके बाद प्रशाशन द्वारा पीछे से पानी छोड़ा गया| जो भी व्यक्ति अपने पशुओ को नहलाने या पानी पिलाने ड्रेन मे लेकर गए थे वो सभी झुलस गए|

500 से अधिक पशु हुए ज्वलनशील पदार्थो का शिकार

गांव की सरपंच अंजू के पति का कहना कि लगभग 500 से भी अधिक पशु झुलस चुके है| साथ हे 10 से 12  पशुओ की  जलन में तड़पकर मृत्यु हो चुकी है| सभी लोगो के अंदर इस घटना के बाद एक डर बै गया है क्यूकी जिन पशुओ को लोगो ने प्यार से पला था उन्ही को लोगो ने झुलसते हुए देखा|

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

कोंडदेव ने आजीवन पहना बिना बांह का कुर्ता

दादोजी कोंडदेव ने मराठा साम्राज्य के संस्थापक छत्रपति शिवाजी को सैन्य और धार्मिक शिक्षा दी थी। शिवाजी के पिता शाहजी की पूना की जागीर...

भारतीय मसालों की साख पर बट्टा लगाती कंपनियां

मध्य काल में भारतीय मसालों की कभी यूरोप तक जबरदस्त मांग थी। हल्दी, काली मिर्च, दालचीनी, अदरक, तेजपत्ता और लौंग का दीवाना तो आज...

सूदखोरों के मकड़जाल में फंसकर कब तक जान गंवाते रहेंगे लोग?

मुंशी प्रेमचंद की एक कालजयी रचना है सवा सेर गेहूं। कहानी सूदखोर महाजन की लुटेरी व्यवस्था का बड़ा मार्मिक वर्णन करती है। कहानी का...

Recent Comments