Sunday, May 19, 2024
45.2 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeLATESTचॉकलेट अल्जाइमर रोग से बचाने में मदद कर सकता है, शोधकर्ताओं का...

चॉकलेट अल्जाइमर रोग से बचाने में मदद कर सकता है, शोधकर्ताओं का है कहना ?

Google News
Google News

- Advertisement -

नेचर मेडिसिन जर्नल में प्रकाशित एक नए अध्ययन से पता चलता है कि चॉकलेट खाने से अल्जाइमर रोग से बचाव में मदद मिल सकती है। यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया, सैन फ्रांसिस्को के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए अध्ययन में पाया गया कि जो लोग नियमित रूप से चॉकलेट खाते हैं, उनमें चॉकलेट नहीं खाने वालों की तुलना में अल्जाइमर रोग विकसित होने का जोखिम कम होता है।

अध्ययन में 2,000 से अधिक लोगों के डेटा को देखा गया, जिनका औसतन 20 वर्षों तक पालन किया गया। शोधकर्ताओं ने पाया कि जो लोग सप्ताह में कम से कम एक बार चॉकलेट खाते हैं, उनमें कभी चॉकलेट न खाने वालों की तुलना में अल्जाइमर रोग विकसित होने का जोखिम 23% कम होता है। डार्क चॉकलेट खाने वाले लोगों के लिए जोखिम और भी कम था, जो कि फ्लेवोनोइड्स में अधिक होता है, एक प्रकार का एंटीऑक्सीडेंट।

शोधकर्ताओं का मानना है कि चॉकलेट में मौजूद फ्लेवोनॉयड्स मस्तिष्क में सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करके अल्जाइमर रोग से बचाने में मदद कर सकते हैं। ऑक्सीडेटिव तनाव एक ऐसी स्थिति है जो तब होती है जब शरीर में मुक्त कणों और एंटीऑक्सिडेंट के बीच असंतुलन होता है। मुक्त कण अस्थिर अणु होते हैं जो कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं, जबकि एंटीऑक्सिडेंट कोशिकाओं को नुकसान से बचाने में मदद कर सकते हैं।

यह सुझाव देने वाला पहला अध्ययन नहीं है कि चॉकलेट के स्वास्थ्य लाभ हो सकते हैं। पिछले अध्ययनों से पता चला है कि चॉकलेट हृदय स्वास्थ्य, रक्तचाप और रक्त शर्करा के स्तर को बेहतर बनाने में मदद कर सकती है। चॉकलेट को मूड और संज्ञानात्मक कार्य को बढ़ावा देने के लिए भी दिखाया गया है।

हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि नेचर मेडिसिन में प्रकाशित अध्ययन पर्यवेक्षणीय था, जिसका अर्थ है कि यह साबित नहीं कर सकता कि चॉकलेट अल्जाइमर रोग के कम जोखिम का कारण है। इन निष्कर्षों की पुष्टि करने के लिए और स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने के लिए चॉकलेट की इष्टतम मात्रा निर्धारित करने के लिए और अधिक शोध की आवश्यकता है।

ऐसे में अगर आप चॉकलेट का लुत्फ उठाते हैं तो इसे छोड़ने की जरूरत नहीं है। बस इसे कम मात्रा में खाना सुनिश्चित करें और डार्क चॉकलेट चुनें, जो फ्लेवोनोइड्स में अधिक है।

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

प्रचंड गर्मी के लिए प्रकृति के साथ पूरा मानव समाज जिम्मेदार

राजनीतिक रूप से तो प्रदेश का पारा चढ़ा ही है, लेकिन सूरज ने भी अपना रौद्र रूप दिखाना शुरू कर दिया है। पूरा उत्तर भारत...

सीवी रमन बोले, मुझे ईमानदार वैज्ञानिक चाहिए

प्रकाश प्रकीर्णन के क्षेत्र में खोज करने के लिए विख्यात सर चंद्रशेखर वेंकट रमन का जन्म 7 नवंबर 1888 में हुआ था। सर सीवी रमन...

अरविंद केजरीवाल ने बहुत सोच समझकर चुनौती दी है

इसमें कोई दो राय नहीं है कि दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल कुशल राजनीतिज्ञ हैं। वह माहौल को अपने पक्ष में कैसे बदला जाए,...

Recent Comments