Thursday, June 20, 2024
30.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeLATESTराज्य में होंगे सौ CBG Plant, यूपी सरकार 17 लाख बायो-डीकंपोजर भी...

राज्य में होंगे सौ CBG Plant, यूपी सरकार 17 लाख बायो-डीकंपोजर भी बांटेगी

Google News
Google News

- Advertisement -

Lucknow : आम के आम और गुठलियों के दाम वाली कहावत अब यूपी के किसानों की जिंदगी में सच हो जाएगी। फसल काटने के बाद जो पराली उनके और पर्यावरण के लिए समस्या मानी जाती थी, वह अब आय और ऊर्जा का जरिया बन रही है। यह संभव हो रहा है सीबीजी (कंप्रेस्ड बायो गैस) प्लांट से। सीबीजी प्लांट (CBG Plant) में पराली से ईंधन तैयार किया जा रहा है और ईंधन बनाने के लिए कच्चे माल के तौर पर किसानों से उनकी पराली खरीदी जा रही है। वर्तमान में उत्तर प्रदेश में दस सीबीजी प्लांट चालू हो गये हैं। आने वाले समय में प्रदेश में इनकी संख्या बढ़कर सौ हो जायेगी। इसी महीने की 8 तारीख को केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने इसकी घोषणा भी कर दी है।

CM Yogi

मशीनीकरण के बढ़ते चलन और मजदूरों की अनुपलब्धता के कारण अब फसलों की कटाई कंबाइन से की जाती है। धान और गेहूं की प्रमुख खरीफ और रबी फसलों की कटाई के बाद, अगली फसल की तैयारी में इन फसल अवशेषों को जलाने की प्रथा आम है। इसके कारण कुछ क्षेत्रों में विशेषकर धान की कटाई के बाद मौसम में नमी के कारण यह समस्या गंभीर हो जाती है। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार इस समस्या का स्थायी समाधान निकालने के लिए कड़ी मेहनत कर रही है। इससे जुड़ी योजनाएं लागू होने तक सरकार का इरादा हर संभव तरीके से पराली जलाने से होने वाले प्रदूषण की समस्या को कम करने का है। इस दिशा में सीबीजी प्लांट एक उत्कृष्ट विकल्प बनकर उभरा है।

Stubble Burning

सरकार द्वारा तैयार उत्तर प्रदेश राज्य जैव ऊर्जा नीति 2022 के मसौदे में कृषि अपशिष्ट आधारित बायो सीएनजी, सीबीजी इकाइयों के लिए विभिन्न प्रोत्साहनों का प्रावधान किया गया है. सरकार का इरादा हर जिले में सीबीजी प्लांट स्थापित करने का है। इसी क्रम में 8 मार्च को गोरखपुर के धुरियापार में इंडियन ऑयल के सीबीजी प्लांट का उद्घाटन किया गया। इसके उद्घाटन अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ मौजूद केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने उपहार लेने की प्रतिबद्धता जताई थी। आने वाले समय में यूपी में सीबीजी प्लांट की संख्या दस से बढ़कर सौ हो जाएगी। सीबीजी पौधों को प्रोत्साहित करने के साथ-साथ सरकार ने धान की पराली को बायोकम्पोस्ट में बदलने के लिए 17 लाख किसानों को बायो डीकंपोजर उपलब्ध कराने का फैसला किया है। इस बीच जागरुकता और अन्य अभियान भी जारी रहेंगे।

यह भी पढ़ें : Masane Ki Holi : काशी में पर्यटकों ने देखा दिगंबर मसाने की होली का अद्भुत नजारा

CBG Plant

पराली जलाने से क्या दुष्प्रभाव होते हैं?

अगर आप कटाई के बाद धान की पराली जलाने की सोच रहे हैं तो रुकिए और सोचिए। आप न केवल खेत बल्कि अपना भाग्य भी इसके साथ खर्च करने जा रहे हैं। क्योंकि पराली के साथ फसल के लिए सबसे जरूरी पोषक तत्व नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटाश (एनपीके) के साथ-साथ अरबों मिट्टी के मित्र बैक्टीरिया और कवक भी जल जाते हैं। भूसे जैसे जानवरों को मारने का भी अधिकार है।

भूसे में भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं पोषक तत्व

शोध से सिद्ध हुआ है कि शेष डंठलों में एनपीके की मात्रा क्रमशः 0.5, 0.6 एवं 1.5 प्रतिशत है। यदि इन्हें जलाने की बजाय खेत में ही खाद बना लिया जाए तो यह खाद मिट्टी को उपलब्ध हो जाएगी। इससे अगली फसल में लगभग 25 प्रतिशत उर्वरक की बचत होगी, खेती की लागत कम होगी और मुनाफा भी उतना ही बढ़ जायेगा। मिट्टी में कार्बनिक पदार्थ, बैक्टीरिया और कवक का अस्तित्व, पर्यावरण संरक्षण और ग्लोबल वार्मिंग में कमी बोनस होगी। गोरखपुर एनवायर्नमेंटल एक्शन ग्रुप के एक अध्ययन के अनुसार, जब प्रति एकड़ पराली जलाई जाती है, तो पोषक तत्वों के अलावा प्रति ग्राम मिट्टी में मौजूद 400 किलोग्राम उपयोगी कार्बन, 10-40 करोड़ बैक्टीरिया और 1-2 लाख कवक जल जाते हैं।

यह भी पढ़ें : Akhilesh की पत्नी और बेटे ने CM Yogi से मिलकर जताया आभार

उत्तर प्रदेश पशुधन विकास परिषद के पूर्व क्षेत्रीय प्रबंधक डॉ. बीके सिंह के मुताबिक प्रति एकड़ डंठल से करीब 18 क्विंटल भूसा निकलता है। यदि सीजन में भूसे की प्रति क्विंटल कीमत 400 रुपये के आसपास मानी जाए तो 7200 रुपये का भूसा डंठल के रूप में नष्ट हो जाता है। बाद में यही चारा परेशानी का कारण बन जाता है।

अन्य लाभ

  • फसल अवशेषों से ढकी मिट्टी का तापमान नम होने के कारण इसमें सूक्ष्मजीवों की सक्रियता बढ़ जाती है, जो अगली फसल के लिए सूक्ष्म पोषक तत्व प्रदान करते हैं।
  • अवशेषों से ढकी मिट्टी की नमी बरकरार रहने से मिट्टी की जल धारण क्षमता भी बढ़ती है। इससे सिंचाई की लागत कम हो जाती है क्योंकि पानी का कम उपयोग होता है। इसके अलावा दुर्लभ जल की भी बचत होती है।

विकल्प

डंठल को जलाने की बजाय उसे खेत में गहरी जुताई कर पलट दें और सिंचाई कर दें। शीघ्र सड़न के लिए सिंचाई से पहले प्रति एकड़ 5 किलोग्राम यूरिया का छिड़काव किया जा सकता है। इसके लिए संस्कृतियाँ भी उपलब्ध हैं।

लेटेस्ट खबरों के लिए जुड़े रहे : https://deshrojana.com/

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

दक्षिण भारत को प्रियंका और उत्तर प्रदेश को संभालेंगे राहुल

आखिरकार राहुल गांधी ने वायनाड सीट छोड़ने और अपनी बहन प्रियंका गांधी को वायनाड से लड़ाने का फैसला कर ही लिया। इस बात की...

किरण चौधरी ने क्यों छोड़ा हरियाणा कांग्रेस का साथ, क्या रहे अंदरूनी कारण?

हरियाणा की राजनीती में अपनी छाप छोड़ने वाले पूर्व मुख्यमंत्री बंसी लाल की पुत्रवधु किरण चौधरी ने हरियाणा कांग्रेस का साथ छोड़ अपना रास्ता...

पाप का गुरु मन में बैठा लोभ है

प्राचीनकाल में किसी गांव में एक पंडित जी रहते थे। वह नियम धर्म के बहुत पक्के थे। किसी के हाथ का छुआ पानी तक नहीं पीते...

Recent Comments