Friday, June 21, 2024
31.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeLATESTMasane Ki Holi : काशी में पर्यटकों ने देखा दिगंबर मसाने की...

Masane Ki Holi : काशी में पर्यटकों ने देखा दिगंबर मसाने की होली का अद्भुत नजारा

Google News
Google News

- Advertisement -

Masane Ki Holi (Varanasi) : काशी के मणिकर्णिका घाट पर गुरुवार को अद्भुत नजारा देखने को मिला। यहां जलती चिताओं के बीच “चिता भस्म” होली बड़े हर्षोल्लास के साथ खेली गई। लोग मसाने होली (Masane Ki Holi) खेलने के लिए मणिकर्णिका घाट स्थित श्मशान घाट पर एकत्र हुए। मान्यता है कि भगवान भोलेनाथ मणिकर्णिका श्मशान में अपने भक्तों के साथ चिता भस्म से होली खेलते हैं।

Masane Ki Holi

काशी में ही खेली जाती है ऐसी होली

देशभर में रंग और गुलाल से होली खेली जाती है, लेकिन शिव की नगरी काशी में चिता की राख से भी होली खेली जाती है. ऐसी होली पूरी दुनिया में केवल काशी में ही मनाई जाती है। मान्यता है कि भगवान शंकर अपने इष्ट, भूत, प्रेत और पिशाच शक्तियों के साथ भस्म की होली खेलते हैं।

Masane Ki Holi

यह भी पढ़ें : UPSSF : अत्याधुनिक हथियारों की खरीदारी के लिए शासन से मिली वित्तीय स्वीकृति

विदेशी पर्यटकों ने भी लुत्फ उठाया

चिता भस्म की होली शुरू करने से पहले बाबा मसान नाथ की पूरे विधि-विधान से पूजा की जाती है. इसके बाद बाबा की आरती की जाती है और चिता की राख से होली की शुरुआत की जाती है, जिस दौरान पूरा श्मशान घाट ढोल-नगाड़ों और डमरू के साथ ‘हर-हर महादेव’ के जयकारों से गूंज उठता है. काशीवासियों के साथ-साथ विदेशी पर्यटकों ने भी इस महोत्सव का लुत्फ उठाया।

Varanasi

क्यों मनाई जाती है मसाने की होली?

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार मसान की होली की शुरुआत भगवान शिव ने की थी. माना जाता है कि रंगभरी एकादशी के दिन ही भगवान शंकर माता पार्वती को काशी लाए थे। फिर उन्होंने अपने दोस्तों के साथ रंग और गुलाल से होली खेली. लेकिन वे श्मशान में रहने वाले भूत, प्रेत, पिशाच, यक्ष, गंधर्व, किन्नर आदि प्राणियों के साथ होली नहीं खेल सकते थे, इसलिए रंगभरी एकादशी के एक दिन बाद भोलेनाथ ने होली मनाई थी। श्मशान में रहने वाले भूतों के साथ खेली होली. तभी से काशी में मसान होली खेलने की परंपरा चली आ रही है। चिता की राख से होली खेलने की यह परंपरा देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी मशहूर है।

लेटेस्ट खबरों के लिए जुड़े रहें : https://deshrojana.com/

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

भीषण अव्यवस्था का पर्याय बनते हरियाणा के सरकारी अस्पताल

हरियाणा के अस्पतालों में अव्यवस्था कम होने का नाम नहीं ले रही है। इन दिनों जब भीषण गर्मी और अन्य बीमारियों की वजह से...

जदयू सांसद ने कहीं पैरों पर कुल्हाड़ी तो नहीं मार ली!

जदयू सांसद देवेश चंद्र ठाकुर का मुस्लिम और यादवों को लेकर दिए गए बयान का असर बिहार की राजनीति में बहुत दिनों तक...

महात्मा बुद्ध ने समझाया, शरीर नश्वर है

जब कोई व्यक्ति अपने आराध्य के गुणों, कार्यों और वचनों को याद रखने, उनके बताए गए मार्ग का अनुसरण करने की जगह मूर्ति बनाकर...

Recent Comments