Wednesday, May 22, 2024
40.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeIndiaपतंजलि आयुर्वेद को एक और बड़ा झटका, 14 प्रॉडक्ट्स का लाइसेंस किया...

पतंजलि आयुर्वेद को एक और बड़ा झटका, 14 प्रॉडक्ट्स का लाइसेंस किया सस्पेंड

Google News
Google News

- Advertisement -

बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद (Patanjali Ayurveda) लगातार विवादों में घिरी हुई है मानों जिस तेजी से बाजार में पतंजलि (Patanjali) के प्रोडक्ट्स फेमस हुए थे उसी तेजी से उनका नाम भी डूब रहा है। पतंजलि के 14 प्रॉडक्ट्स को लेकर उत्तराखंड सरकार (Uttarakhand Government) ने भी अहम कदम उठाए है और हाल ही में उनका लाइसेंस सस्पेंड कर दिया लेकिन ऐसे में सवाल है कि अचानक से बाबा रामदेव (Baba Ramdev) पर एक साथ गाज कैसे गिरी और इस सबकी शिकायत किसने की आइए जानते है –

Baba Ramdev

पतंजलि आयुर्वेद (Patanjali Ayurveda) के प्रोडक्ट्स अचानक से विवादों में नहीं घिरे है बल्कि कई समय से इन पर नज़र रखी जा रही थी आरटीआई एक्टिविस्ट डॉ. वी के बाबू ने 15 जनवरी को पीएमओ को शिकायत दी थी कि पतंजलि आयुर्वेद (Patanjali Ayurveda) बार-बार Drugs and Magic Remedies Act, 1954 का उल्लंघन कर रही है। जिस पर जांच के बाद उत्तराखंड सरकार (Uttarakhand Government) ने बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद के 14 प्रॉडक्ट्स का लाइसेंस सस्पेंड (license suspended) कर दिया पीएमओ को भेजी गई एक आरटीआई में शिकायत की गई थी कि पतंजलि आयुर्वेद आयुष उत्पादों के बारे में भ्रामक विज्ञापनों से जुड़े कानून का बार-बार उल्लंघन कर रही है। जिसकी वजह से उनपर उचित कार्रवाई करने की मांग गई थी जिसके बाद उत्तराखंड की लाइसेंसिंग अथॉरिटी ने पतंजलि आयुर्वेद (Patanjali Ayurveda) के 14 उत्पादों का लाइसेंस कैंसल (license suspended) करने के साथ ही कंपनी के खिलाफ हरिद्वार की एक अदालत में कानूनी कार्यवाही भी शुरू कर दी।

Patanjali Ayurveda

यह भी पढ़ें : अपने-अपने तीर और तरकश से सजी राजनीतिक दलों की सेनाएं

चेतावनी के बाद भी जारी रहे विज्ञापन

पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड (Patanjali Ayurveda Limited) और दिव्य फार्मेसी (Divya Pharmacy) द्वारा बनाई गई कुछ दवाओं के भ्रामक विज्ञापनों के बारे में डॉ. बाबू केवी (Dr. Babu KV) ने शिकायत की थी। जिसके बाद दोनों कंपनियों को कई बार चेतावनी देते हुए नोटिस जारी किए गए थे लेकिन इसके बावजूद भी कुछ दवाओं के भ्रामक विज्ञापन (Misleading advertising) और बिक्री जारी रही। जिसको देखते हुए अथॉरिटी ने कंपनी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की है। शिकायतें मिलने के बाद भी राज्य सरकार की ओर से इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की गयी इसके बाद बाबू केवी ने पीएमओ और सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया।

Patanjali Ayurveda Products


लेटेस्ट खबरों के लिए क्लिक करें : https://deshrojana.com/

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

कबीरदास ने सिखाया सरलता का पाठ

संत कबीरदास समाज सुधार ही नहीं, एक कवि भी थे। उन्होंने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज को सुधार की दिशा में प्रवृत्त किया...

राष्ट्रपति रईसी की मौत पर ईरान में खुशी भी, गम भी

ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी की हेलिकॉप्टर दुर्घटना में हुई मौत के बाद दो तरह की प्रतिक्रियाएं व्यक्त की जा रही हैं। ईरान और...

अब तो चुनाव को लेकर बदलने लगा मतदाताओं का मिजाज

लोकसभा चुनाव का परिदृश्य ही इस बार बदला हुआ नजर आ रहा है। लग ही नहीं रहा है कि यह लोकसभा चुनाव का माहौल...

Recent Comments