Tuesday, June 25, 2024
34.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeEDITORIAL News in Hindiसंन्यासी होने का मतलब कठोर दिल होना नहीं

संन्यासी होने का मतलब कठोर दिल होना नहीं

Google News
Google News

- Advertisement -

लालच को दुनिया के हर देश में बुरा बताया गया है। हमारे देश में तो लालच को बुरी बला तक कहा गया है। इसके बावजूद इंसान में लालच कम होने की जगह पर बढ़ता जा रहा है। लेकिन इसी संसार में कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिनको दूसरे की संपत्ति का तनिक भी लालच नहीं होता है। ऐसी ही एक कहानी है छोटी सी बच्ची और उसकी मां की। बच्ची और उसकी मां थीं भी बहुत गरीब, लेकिन लालच तो तनिक भी नहीं था। एक बार की बात है। किसी प्रदेश में अकाल पड़ा। कई वर्षों तक बरसात न होने से फसल हुई ही नहीं।

लोगों के भूखे रहने की नौबत आ गई। उस प्रदेश के कुछ दयावान अमीरों ने लोगों की सहायता के लिए भंडारे किए। कुछ न कपड़े-लत्ते बांटे। एक धनी सेठ ने घोषणा की कि वह बच्चों को रोटी देंगे। अगले दिन से उनके घर के आसपास बच्चों की लाइन लग गई। उनमें एक छोटी बच्ची भी थी। रोटियां छोटी-बड़ी थीं। सभी बच्चे बड़ी रोटी लेना चाहते थे। लेकिन आखिर में उस बच्ची के हिस्से में छोटी रोटी आई। वह उस रोटी को लेकर खुशी-खुशी घर चली गई। दूसरे दिन फिर यही हुआ। छोटी बच्ची को अंत में एक छोटी रोटी मिली।

यह भी पढ़ें : हरियाणा में एक बार फिर किसान आंदोलन की सुगबुगाहट तेज

वह प्रसन्नता से उस रोटी को लेकर चली गई। घर जाकर जब उसने रोटी को तोड़ा, तो उसमें से सोने की एक मुहर निकली। उसकी मां ने कहा कि यह मुहर उस सेठ की है, उसे वापस दे आओ। लड़की मुहर लेकर सेठ के घर गई और बोली कि आटे में गलती यह मुहर गिर गई थी। इसे मैं वापस करने आई हूं। यह सुनकर उस सेठ ने उस बच्ची को अपनी धर्म पुत्री बना लिया और उसकी मां को मासिक वजीफा बांध दिया ताकि उनके घर का खर्च चलता रहे। उनके पास कमाई का कोई जरिया भी नहीं था। बाद में वह लड़की सेठ की उत्तराधिकारी बनी।

-अशोक मिश्र

लेटेस्ट खबरों के लिए क्लिक करें : https://deshrojana.com/

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

अमेरिका में गांधी के सविनय अवज्ञा की धूम

महात्मा गांधी ने भारत को आजाद कराने के लिए सविनय अवज्ञा आंदोलन की नींव रखी थी। दुनिया के लिए यह विचार एकदम अनोखा था।...

असदुद्दीन ओवैसी ने संसद में शपथ के दौरान किसका लगाया नारा, मचा बवाल

लोकसभा के विशेष सत्र का आज दूसरा दिन था ऐसे में बचे हुए 263 सांसदों ने आज शपथ ली। इस बीच हैदराबाद लोकसभा सीट...

प्रदेश कांग्रेस का अंतर्कलह कहीं विधानसभा चुनाव पर भारी न पड़े

आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारियों में भाजपा और कांग्रेस दोनों जुट गई हैं। भाजपा संगठन और प्रदेश सरकार ने अपने स्तर पर कार्यकर्ताओं को मैदान...

Recent Comments