Thursday, July 25, 2024
31.1 C
Faridabad
इपेपर

रेडियो

No menu items!
HomeEDITORIAL News in Hindiसंत नामदेव ने छाल की तरह अपनी खाल उतारी

संत नामदेव ने छाल की तरह अपनी खाल उतारी

Google News
Google News

- Advertisement -

महाराष्ट्र के संत नामदेव ने जीवन भर प्रभु भक्ति और समता का प्रचार किया। वह अपने समय के प्रसिद्ध संत ज्ञानेश्वर के साथ उत्तर भारत में आए थे। कहा जाता है कि उन्होंने कई साल तक पंजाब में भी बिताए थे। संत ज्ञानेश्वर अपने समकालीन संत नामदेव से पांच साल बड़े थे। संत नामदेव ने मराठी के साथ-साथ हिंदी में भी रचनाएं की थीं। सिख धर्म की सबसे पवित्र पुस्तक गुरु ग्रंथ साहिब में संत नामदेव की रचनाएं शामिल की गई हैं। संत नामदेव ने किसी भी प्रकार भेदभाव न करने की बात कही है। यही वजह है कि वे महाराष्ट्र से लेकर पंजाब और हिंदी भाषी प्रदेशों में भी पढ़े और पूजे जाते हैं। उनके बचपन की एक कथा है। एक बार की बात है।

उनकी मां गोणाई देवी को किसी दवा के लिए एक पेड़ की छाल की जरूरत थी। उन्होंने अपने पुत्र नामदेव से उस पेड़ की छाल लाने को कहा। नामदेव बचपन से आध्यात्मिक प्रवृत्ति के थे। उनका मन ईश्वर भक्ति में बहुत लगता था। मां का आदेश मिलने पर उन्होंने चाकू उठाया और चल दिए। घर से थोड़ी दूर पर लगे उस पेड़ की छाल उतारी और घर की ओर लौटने लगे। वह अभी घर के आधे रास्ते में थे कि उन्हें एक साधु मिला। वह उन्हें पहचानता था।

उस साधु ने पूछा, कहां गए थे नामदेव। नामदेव ने कहा कि मां ने पेड़ की छाल मंगाई थी, वही लेने गया था। उस संत ने कहा कि क्या तुम्हें मालूम है कि पेड़ में भी जान होती है। वैद्य जब पेड़ की फूल,पत्ती याछाल लेते हैं, तो पेड़ से हाथ जोड़कर क्षमा मांगते हैं। छाल उतारने पर पेड़ को कितना दर्द हुआ होगा, जानते हो? यह सुनकर नामदेव घर लौट आए और उसी चाकू से अपने पैर की खाल उतारने लगे। खून देखकर उनकी मां ने पूछा, यह क्या कर रहे हो। तब नामदेव ने सारी बात बताई।

-अशोक मिश्र

लेटेस्ट खबरों के लिए क्लिक करें : https://deshrojana.com/

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
Desh Rojana News

Most Popular

Must Read

Haryana Congress: हुड्डा ने क्यों कहा, नॉन स्टॉप नहीं फुल स्टॉप हरियाणा

कांग्रेस (Haryana Congress: ) नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा है कि नायब सिंह सैनी सरकार को अपने नान-स्टाप हरियाणा नारे को फुल स्टाप...

बेटे पर ध्यान देते तो वह क्यों बिगड़ता?

तमिल के प्रख्यात कवि और संत तिरुवल्लुवर ने तमिल साहित्य को समृद्ध करने में बहुत योगदान दिया। संत तिरुवल्लुवर ने लोगों को इस बात की...

US Election: कमला हैरिस के नेतृत्व में कैसा होगा भारत-अमेरिका संबंध,जानिए

मुकेश अघी जो कि भारत केंद्रित अमेरिकी व्यापार एवं रणनीतिक पैरोकार समूह के प्रमुख हैं ने एक साक्षात्कार में कमला हैरिस के राष्ट्रपति (US...

Recent Comments